Breaking News

परवाज वेलफेयर सोसाइटी के महासचिव शहरयार ने मीडिया को पत्र जारी कर खोली पोल

लखनऊ! परवाज वेलफेयर सोसाइटी सचिव शहरयार ने मीडिया को पत्र जारी कर सत्ता के गलियारों और उनके व्यावहारिक आचरण एवं व्यवस्था की हकीकत बयां की !मीडिया को जारी पत्र में उन्होंने कहा की हम लोगों ने 24 दिसम्बर 2015 को हिन्दू -मुस्लिम कौमी एकता पर डायमंड पैलेस होटल में एक आल इंडिया मुसायरा एवं कवि सम्मेलन बाबा लाल पीर गोपामउ हरदोई के नाम पर आयोजित किया था। उस कार्यक्रम में कुछ गिनती के ही लोग आये थे जब की इस मुसायरे में मा0 नरेन्द्र मोदी प्रधानमंत्री भारत सरकार एवं उनके केबिनेट के अन्य साथियों मा0 राज नाथ सिह गृह मंत्री, मा0 अरूण जेटली वित्रमंत्री ,मा0 मनोहर पार्रिकर रक्षामंत्री मा0 नितिन गडकरी सड़क परिवहन ,श्री मती नजमा हेपतुल्ला अल्प संख्यक कार्य एवं श्री मती स्मृती जुबीन ईरानी मानव संसाधन एवं शिक्षा व दो प्रवक्ताओं शाहनवाज हुसैन और डा0 सम्बित पात्रा को आमंत्रित किया था। परन्तु इनमें से कोई भी मंत्री हिदूं मुस्लिम एकता के इस मुसायरे व कवि सम्मलेन में नही आया यही नहीं उन्होंने बिहार के मुख्यमंत्री मा0 नीतीष कुमार , दिल्ली के मुख्यमंत्री मा0 अरविंद केजवरीवाल ,महाराष्ट्र से मा0 देवेन्द्र फड़नवीस ,मा0 चन्द्र बाबू नायडू, कु0 ममता बनर्जी ,मा0 लालू प्रसाद यादव ,जनाब असुददीन आवैसी ने भी कौमी एकता मुसायरे में आना जरूरी नही समझा जब की कार्ड इन्हें भी भेजा गया ।
उन्होंने बताया की कॉग्रेस से राहुल गाधी , गुलाम नबी आजाद सलमान खुर्शीद मनीशंकर अययर को भी बुलाया था। मा0 अखिलेस सिंह यादव और उनके केबिनेट के मंत्रियो में अरविंद सिंह गोप ,कमाल अख्तर, बलवंत सिहं,रामू बालिया, हाजी रियाज ,फरीद महफूज किदवई ,नितिन अग्रवाल ,यासर शाह,सैयदा सादाब फातिमा, मा0 नरेश अग्रवाल राज्य सभा सदस्य को आमंत्रण इनके घरों पर भिजवाया था। सिर्फ फरीद महफूज किदवई अपने निवास से निकलते हुए मिले थे और उन्होने हमें बताया भी था कि 24-12-2015 को वह लखनउ में नहीं होंगे वर्ना वह जरूर प्रोग्राम में सिरकत करते । मा0 नरेश अग्रवाल जो समाज वादी पार्टी से राज्य सभा सदस्य हैं उन्होने जरूर एक पत्र के द्वारा हमें सूचित किया था और प्रोग्राम में न आने के लिए खेद प्रकट किया था। जबकि मा0 नरेश अग्रवाल बीमार थे और हम स्वयं उनके घर पर गौतम पल्ली में रीढ़ की हड्डी टेडी होने के बावजूद कार्ड देने पहुंचे थे।
पत्र में उन्होंने यह भी कहा की पहले बी0जे0पी0 के नेताओं के बारे में बताते चले प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी एवं उनके केबिनेट के अन्य सहयोगियों से पते मालूम करने के लिए हमें बी0 जे0 पी0 कार्यालय विधान सभा मार्ग में दो बार जाना पडा। पहली बार जाने पर उस कार्यालय में एक भी पदाधिकारी नहीं मिला। पता करने पर मालूम हुआ कि बी0जे0पी अध्यक्ष समेत सारे पदाधिकारी दौरे पर है । उस कार्यालय में एक सज्जन से मालूम करने पर पता चला कि दिल्ली के नेताओ के पते
कंप्यूटर आपरेटर के पास से मिल जायेंगे । आपरेटर साहब दो बजे के बाद कार्यालय आयें । अब मा0 अखिलेष सिह यादव मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेष के कार्यालय के बारे में सुन लीजिए । हम कालीदास मार्ग स्थित उनके आवास पर आमंत्रण पत्र देने गये थे। सनिवार का दिन था इनके आवास में दाखिल होने के साथ ही एक अनपढ़ आदमी ने हमारा रास्ता रोका और कहा कि अखिलेस भैया घर पर नही है। हमने पी0ए0 के बारे मेें पूछा तो उसने जवाब दिया कि वो भी नही है आप अपने घर जाओं । मई असमंजस में था सोचा की क्या लखनउ की यही तहजीब है अगर घर में कोई निमंत्रण पत्र लेकर आये उससे इस प्रकार का व्यवहार किया जाता है अन्त में हमने जब पास बनाने वाले क्लर्क से पूछा तो उसने जवाब दिया कि आप सोमवार को मुख्यमंत्री सचिवालय में जाकर सचिव साहब को आमंत्रण पत्र दे देना । सोमवार को हम मुख्य मंत्री कार्यालय कार्ड देने के लिए पहुंचे गेट पर ही सिक्योर्टी गार्ड ने रोक लिया उसने मुख्य मंत्री के पी0ए0 को फोन मिलाया । उन्होंने कहा कि हमे गेट पर ही रोके रखें कार्ड लेने के लिए साहब एक आदमी भेज रहे रहे हैं आधा घण्टा तक हम गेट पर ही खडे रहे परन्तु कोई भी आदमी कार्ड लेने मुख्य मंत्री कार्यालय से नही आया। गार्ड ने हम से कहा आप पड़ोस के कार्यालय से पास बनवा कर मुख्य मंत्री कार्यालय चले जायें हम पास बनवाने गये उसने भी मुख्य मंत्री कार्यालय में फोन लगा कर बात की वहॉ से फिर वही जवाब मिला कि आदमी आमंत्रण पत्र लेने आ रहा है।दो धण्टे इंतजार करने के बाद हमने निमंत्रण पत्र पास बनाने वाले बाबू को दे दिया और अपने घर वापस आ गये। क्या मुख्य मंत्री जी बतायेंगे कि उनके यहा एक निमंत्रण पत्र देने में कितने दिन लगते हैं एक वरिप्ठ नागरिक को जिसने 38 वर्ष भारत सरकार की ही सेवा की हो जिस वरिप्ठ नागरिक के पास भारत सरकार का दिया हुआ पहचान पत्र, वोटर आईडी ,आधार कार्ड सब कुछ मौजूद था तो फिर साहब को क्या परेसानी हो गयी थी कि उन्होने न तो निमंत्रण पत्र लेने के लिए कोई आदमी भेजा और न ही पास बनाने के लिए क्लर्क को अनुमति दी मैं जानना चाहता हूँ की क्या आपका स्टाफ हिन्दुस्तान के मुअज़िज़ वरिप्ठ नागरिक को भी कीड़ा मकोड़ा समझता है।
अब कुछ हम अपने बारे में भी बताना चाहते हैं हमारी मां का खानदान समरकंद मोहल्ला साहदरा अफगाानिस्तान से आया था हमारी मॉं के बुजुर्गों का मजार गोपामऊ जिला हरदोई में बना है। पख़तूनिस्तान ,अफगानिस्तान ,उजबेकिस्तान यहॉं जो पठान रहते है वह संसार के भगवान अमेरिका रूस ब्रिटेन और फ्रॉस से नही डरते है। वह सिर्फ अल्लाह ताला से डरते है क्योकि ये सब हनुमान बंसज़ पठान है उन्ही हनुमान वंषियो में से हम भी है । हमने दुनिया में जिसको गुरू बनाया वह स्वं0 एस0 पी0 सोवानी से0नि0 मुख्य महा प्रबंधक परियोजना उत्तर क्षेत्र नई दिल्ली थे लेकिन सोवनी जी को कॉग्रेस के कुछ भ्रप्ट मंत्रियों खासकर सुखराम और उनके साथ लगे हुए कुछ भ्रप्ठाचारी दूर संचार विभाग के अधिकाररियं द्वारा प्रताडि़त किया गया जिससे वे स्वैछिक रिटाययरमेटं लेकर वर्धा आश्रम महाराष्ट्र चले गये उनका कुसूर सिर्फ इतना था कि वह दूर संचार विभाग में पनप रहे भ्रष्टाचार से जिंदगी भर लड़ते रहे । वह एक सच्चे देश भक्त थे विनोवाभावे जी के सबसे प्रिय सागिर्द भी थे।
शहरयार परवाज
जनरल सेक्रेट्री परवाज़ वेलफेयर सोसाइटी
-मो00 8004321700

About Jan Jagran Media Manch

A group of people who Fight Against Corruption.

Check Also

DA Image

प्रदेश में 22 लाख नए रोजगार: नवनीत सहगल

– प्रधानमंत्री 27 को बंटेंगे 3 लाख पटरी दुकानदारों को कर्ज प्रधानमंत्री 27 को बंटेंगे …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *