Breaking News

हत्यारा गिरफ्तार,चर्चित गौरी कांड में पुलिस का खुलासा

लखनऊ पुलिस चर्चित गौरी मर्डर केस का खुलासा कर दिया है।पुलिस सूत्रों के मुताबिक गौरी की हत्या उसके प्रेमी हिमांशु ने ही की थी। उसे शक था कि गौरी के कई लोगों के साथ अवैध संबंध थे। इस वजह से उसने गला दबाकर हत्या की, इसके बाद आरी से शव के टुकड़े-टुकड़े कर दिए। पुलिस ने इस मामले में हिमांशु और उसके दोस्त अनुज को गिरफ्तार किया है। बताते चलें कि बीते 2 फरवरी को लखनऊ में गौरी का शव बोरी में बंद मिला था। पुलिस ने प्रेस कांफ्रेंस में वारदात में इस्तेमाल की गई बाइक, आरी, हत्यारे का जैकेट आदि सामान भी दिखाया। डीजीपी एके जैन ने बताया कि आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल करेगी और उनके खिलाफ रासुका के तहत कार्रवाई करेगी।
डीजीपी एके जैन ने बताया कि वह गौरी को लगभग डेढ़ साल से जानता था। बीते एक फरवरी छह बजकर 58 मिनट पर उसकी गौरी से बात हुई। उसने लाटूश रोड स्थित पीयर्स इंटरनेशनल होटल पर मिलने के लिए बुलाया था। वहां से वह गौरी को बाइक से लेकर तेलीबाग स्थित से अपने घर पर गया। हिमांशु के घरवाले शादी में बाहर गए हुए थे। घर पर उसने गौरी का मोबाइल देखने के लिए मांगा।
आपत्तिजनक फोटो देख भड़का हिमांशु
गौरी ने मोबाइल देने से मना कर दिया। बहस करने के बाद उसने जोर-जबरदस्ती कर मोबाइल ले लिया। मोबाइल में गौरी की आपत्तिजनक फोटो और क्लिपिंग देखकर उसका गुस्सा भड़क उठा। गौरी ने बताया कि उसकी दो युवकों से बातचीत होती है। यह सुनते ही हिमांशु ने गौरी का गला दबाकर हत्या कर दी।
शव के किए टुकड़े-टुकड़े

वारदात को अंजाम देने के बाद हिमांशु बाजार गया। वहां उसने शराब पी और आरी, पॉलीथीन बैग आदि सामान खरीदा। इसके बाद उसने गौरी के शव के टुकड़े-टुकड़े कर दिए। इस दौरान खून निकलकर घर से बाहर नहीं जाए। इसके लिए उसने घर से निकलने वाली नाली में गौरी के कपड़े ठूंस दिए। इसके बाद खून से सने कपड़े और शव को बैग में भर कर तीन-चार चक्कर में फेंक दिया। जांच के दौरान पुलिस ने गौरी के मोबाइल की लोकेशन तलाशी। इस दौरान पता चला कि मोबाइल आरोपी के घर से 50 मीटर के आसपास के एरिया में 20 मिनट के लिए खुला और फिर बंद हो गया था।
घर पर खड़ी थी सीसीटीवी में नजर आई बाइक
इस आधार पर पुलिस ने कुछ घरों को चिन्हित किया और वहां पूछताछ शुरू की। इस दौरान एक घर में देखा कि सीसीटीवी में नजर आई बाइक खड़ी है। बाइक पर लगा गणेश के लोगो ने पुलिस के शक को पुख्ता कर दिया। पुलिस जब घर पर पहुंची तो आरोपी युवक बाहर आया। उसकी शारीरिक बनावट भी सीसीटीवी फुटेज में दिखे हत्यारे से मिल रही थी। इसके अलावा वह मोबाइल पर मोहनलालगंज हत्याकांड की तस्वीरें देख रहा था।
मौके से मिला गौरी का मोबाइल

इसके बाद पुलिस ने उसके घर की तलाशी ली तो फुटेज में दिखी जैकेट, जूते, जींस भी मिल गई। उसके मोबाइल पर गौरी का फोटो भी लगा हुआ था। इसके अलावा घर पर ही गौरी का मोबाइल भी बरामद हुआ। पहले तो आरोपी हिमांशु ने पुलिस को गुमराह करने की कोशिश की, लेकिन कड़ी पूछताछ में उसने अपना गुनाह कबूल कर लिया। उसके पिता रेलवे में फोर्थ क्लास के कर्मचारी है।

About Jan Jagran Media Manch

A group of people who Fight Against Corruption.

Check Also

up 112 police

यूपी 112 ने साल भर में 56.36 लाख लोगों तक पहुंचाई सहायता

अपने एक साल के सफर में यूपी 112 ने बच्चों, महिलाओं व बुजुर्गों सहित समाज …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *