Breaking News

दादी की तर्ज पर कांग्रेस को करेंगे मजबूत-राहुल

लखनऊ: कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने अपनी दादी इन्दिरा गांधी की तर्ज पर कांग्रेस को मजबूत करने का एलान करते हुए कहा कि अब वह हर सप्ताह जनता दर्शन करेंगे। रैम्प पर टहल टहलकर कार्यकर्त्ताओं के सवालों का जवाब देते हुए गांधी से एक कांग्रेसी ने पूछा था कि इन्दिरा गांधी से कोई भी मिल सकता था लेकिन अब आपके परिवार से कोई सामान्यजन मिल ही नहीं सकता। उनका कहना था कि अब वह हर सप्ताह जनता दर्शन करेंगे।

गांधी ने प्रधानमंत्री की नीतियों को गरीबों के खिलाफ ठहराते हुए कहा कि मोदी जी ने उद्योगपतियों के 52 हजार करोड रूपए के कर्ज माफ कर दिए। यह मीडिया में भी नही आता। कांग्रेस उपाध्यक्ष ने कहा कि रोहित वेमुला ने आत्महत्या नहीं की थी बल्कि उसकी हत्या हुई थी। मै दो बार उसके दोस्तों से मिला। वह शिक्षा चाहता था। उन्होंने कहा कि 27 सालों में जो सरकारें आई उसने पूरे राज्य के लिए नहीं बल्कि एक छोटे हिस्से में काम किया। यूपी का विकास तब होगा जब पूरा राज्य एक साथ खड़ा होगा। यहां उत्तर प्रदेश में बिजली है नहीं तो उद्योग कोई क्योंं लगाएगा।

गांधी ने कटाक्ष किया कि बब्बर शेर ने कितने लोगों को रोजगार दिया। युवाओं को अपनी ओर आकर्षित करने की कोशिश करते हुए उन्होंने कहा कि यह सेलफोन जो आपकी जेब है जिससे आप सेल्फी ले रहे है वह मोदी की नहीं कांग्रेस की देन है। कांग्रेस महासचिव गुलाम नबी आजाद ने कहा कि भाजपा और सपा प्रदेश में सांप्रदायिक सौहाद्र बिगाडना चाहते हैें। लोगों को आपस मे भिडाकर वोट हासिल करना चाहते हैं। लोगों को इनसे सावधान रहना होगा। कांग्रेस सरकार बनाने के लिए यह चुनाव लड़ रही है।

कांग्रेस की सरकार बनी तो बिजली,विकास और सड़क के लिए सोचना नहीं होगा। यहां से जाकर अपने-अपने जिलों में लोगों को मैसेज दे कि कांग्रेस आपके लिए है। कांग्रेस कमजोर नहीं है। इस तरह के पहले कार्यक्रम में गांधी ने कार्यकर्त्ताओं के 50 चुनिन्दा सवालों के जवाब दिए। बारिश की वजह से अपेक्षा से कम कार्यकर्त्ता आए लेकिन मौजूद लोगों के सवालों का गांधी ने बखूबी जवाब दिया।

About Jan Jagran Media Manch

A group of people who Fight Against Corruption.

Check Also

शिक्षा मित्रों ने कोविड 19 सर्वेक्षण डियुटी लगाने में की जा रही मनमानी पर जताया आक्रोश

राजधानी लखनऊ में  चिनहट ब्लाक के शिक्षामित्रों ने कोविड 19 सर्वेक्षण में मनमानी तरीके से …