Breaking News

मायावती ने शाह पर बोला हमला

लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख और उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को निशाना बनाया । पिछले हफ्ते शाह ने उत्तर प्रदेश में कई सभाएं करके कांग्रेस, सपा और बसपा पर हमला किया था। उसका जवाब देते हुए मायावती ने कहा कि भाजपा अध्यक्ष लगातार कह रहे हैं कि प्रदेश में कानून व्यवस्था नहीं है और जंगलराज है, ऐसे में केंद्र को चाहिए कि वह राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाने की सिफारिश करे।
भाजपा पर अपने वादे से मुकरने का आरोप लगाते हुए मायावती ने कहा कि भाजपा ने 2014 में लोकसभा चुनाव के दौरान वादा किया था कि वह उत्तर प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लगाएगी, लेकिन सत्ता में आने के बाद वह बेतुकी बयानबाजी कर उस वादे से मुकर रही है। मायावती ने रविवार को यहां पत्रकारों से कहा – कानून व्यवस्था को लेकर भाजपा के अध्यक्ष अपनी सभाओं में बेतुकी बयानबाजी कर रहे हैं। ऐसी बयानबाजी की बजाय भाजपा अध्यक्ष को चाहिए कि वे केंद्र में बैठी अपनी सरकार को राष्ट्रपति शासन लगाने के लिए कहें।
मायावती ने पत्रकारों के सामने अपने करीब 20 मिनट के संबोधन में केवल भाजपा को निशाने पर रखा। उन्होने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था के मसले पर मौन क्यों धारण किए है जबकि पार्टी अध्यक्ष अमित शाह इस गंभीर मसले पर अनर्गल बयानबाजी कर रहे हैं। हालांकि उन्होंने यह बताने से इनकार कर दिया कि अगले साल होने वाले चुनाव में वे अपना मुकाबला किस पार्टी से मान रही हैं। गौरतलब है कि अमित शाह कई बार कह चुके हैं कि उनका मुकाबला समाजवादी पार्टी से है।
मायावती ने दावा किया कि भाजपा भी कांग्रेस की तरह काम कर रही है। परदे के पीछे वह सत्तारूढ़ समाजवादी पार्टी से मिली हुई है और उसे बचाने की हर मुमकिन कोशिश कर रही है। दूसरी ओर पार्टी अपने संवैधानिक दायित्व से मुंह मोड़े हुए है। उन्होंने कहा कि कुछ मौकापरस्त नेताओं के पार्टी छोड़ने से बसपा की लोकप्रियता पर कोई आंच नही आएगी। उन्होंने कहा कि ऐसे आयाराम गयाराम टाइप के नेताओं का चरित्र जनता भलीभांति जानती है और इससे पार्टी की सेहत पर कोई प्रभाव नही पड़ेगा। उन्होंने पार्टी छोड़ने वाले दोनों नेताओं स्वामी प्रसाद मौर्य और आरके चौधरी का नाम नहीं लिया।

About Rizwan Chanchal

Check Also

किसानो में गुस्सा, सिंधु बॉर्डर पर सुरक्षा कड़ी, पैरा मिलिट्री फोर्स तैनात

कृषि कानून रद्द करने की मांग को लेकर आंदोलन कर रहे किसानों व सरकार के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *