Breaking News
Modi's seat over three million bogus votes polled in Varanasi

मोदी के सांसदों के गोद लिए गांवो का बुरा हाल

गोरखपुर : प्रधानमंत्री की सांसद आदर्श ग्राम योजना दिखावा साबित हो रही है। केंद्र में 2 साल पूरे करने जा रही मोदी सरकार की इस योजना के बारे में जब पड़ताल की गई गई तो हकीकत चौंकाने वाली सामने आई। दरअसल जब हमारे रिपोर्टर ने आदर्श ग्राम योजना के तहत सांसदों द्वारा गोद लिए गांवों में हुए विकास का जाएजा लिया तो पाया कि इन गांवों में कोई खास सुधार नहीं हुआ है। हमने अधिकतर जगहों पर यही पाया कि इस योजना का केाई भी प्रत्‍यक्ष लाभ लोगों को नहीं मिल रहा है। यह गांव जैसे पहले थे वैसे आज भी हैं।
योगी आदित्यनाथ के गोद लिए गांव का हाल, बेहाल
बी.जे.पी. के दिग्गज नेता और गोरखपुर के सांसद योगी आदित्यनाथ के गोद लिए गांव जंगल औराही में भी योजना के मानकों का 25 प्रतिशत भी काम नहीं हो पाया है। विकास की राह देख रहे इस गांव के लोग आज भी मूलभूत सुविधाओं से पूरी तरह वंचित हैं। योगी द्वारा चयनित कुल 4393 वोटरों वाले इस गांव में 14 टोले हैं जिसमें विशुनपुरा, श्यामा, रेहार, छावनी/चौहान, हरिजन बस्ती, गजराज टोला, शिव मंदिर टोला, कोइरी टोला, हाता टोला, हाथी टोला, भरटोलिया, हरिजन बस्ती, परती टोला और छावनी टोला है। इस गांव में पहुंचने के लिए सड‍़क जैसी चीज है ही नहीं है। वर्षों पहले यहां पर खडंज़ा बिछाया गया था जो अब गढ्ढों में तब्‍दील हो चुका है। हल्‍की सी बरसात में यह गांव पूरी तरह से पानी से भर जाता है। यहां पर बिजली, पानी, सड़क, स्‍वास्‍थ्‍य जैसी कोई सुविधा देखने को नहीं मिलती है। यहां पर मात्र जल निगम ने ही 50 से ऊपर हैंडप‍ंप लगवाए हैं। इसके अलावा कोई भी विभाग यहां पर आज तक कुछ भी नहीं कर रहा है। सभी इन कार्यों के लिए बजट की बाट जोह रहे हैं, जिसके कारण यहां पर आदर्श जैसी कोई स्थिति नहीं दिख पा रही है।
 क्या कहते हैं गांव वाले?
इस मामले में जब ग्रामीण महिला फूलमती से बात की गई तो उन्होंने बताया कि इस आदर्श गांव में आदर्श कहने लायक ऐसा कुछ भी नहीं है, जो इस गांव को दूसरों से अलग दर्शाता हो। गांव वालों का कहना है कि योगी जी पहले गांव में आते थे लेकिन चुनाव के बाद कुछ ही बार आए हैं और विकास तो बहुत दूर की बात है।
 प्रधानमंत्री ने किस लिए शुरू किया आदर्श ग्राम योजना?
प्रधानमंत्री ने शहरों की तर्ज पर गांवों के विकास के लिए इस योजना की शुरुआत की। इस योजना के तहत सांसदों को एक गांव गोद लेकर उसका विकास करना था। प्रधानमंत्री की इस योजना से गांववाले काफी खुश थे कि अब उनके गांव का जल्द विकास होगा लेकिन यह खुशी उनकी अब लगभग खत्म सी हो गई है। क्योंकि इन आदर्श गांवों का विकास मात्र दिखावा साबित हो रहा है।
 योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश सरकार को ठहराया जिम्मेदार 
इस बारे में गोरखपुर के सांसद योगी आदित्‍यनाथ भी मानते हैं कि जिस हिसाब से गांव का विकास होना चाहिए था वह नहीं हो पाया है क्‍योंकि गांव में काम राज्‍य सरकार के अधिकारियों को करना है और राज्‍य सरकार सांसद आदर्श ग्राम योजना की बजाय लोहिया आदर्श गांव को संवारने में ज्‍यादा रुचि लेता है, इसलिए सांसदों का गांव विकसित नहीं हो पा रहा है। योगी का कहना है कि वह अपने स्‍तर से पूरा प्रयास कर रहे हैं कि उनके द्वारा चयनित गांव को जल्‍द से जल्‍द विकास के रास्‍ते पर लाया जाए।
 आदर्श गांवों में हो रहा पूरा विकास-कलराज मिश्रा
लेकिन इस मामले में केन्‍द्रीय मंत्री कलराज मिश्रा का अपना अलग नजरिया है। कलराज मिश्रा की मानें तो देश के सभी सांसदों द्वारा चयनित आदर्श गांवों में पूरा विकास हो रहा है। वह यह मानने को कतई तैयार ही नहीं हैं कि सांसद के चुुने गांवों में विकास का पहिया थम गया है और वहां पर कोई भी काम नहीं हो रहा है। इनका कहना है कि इसके लिए अलग से कोई फंड नहीं है लेकिन उनके सभी सांसद इसी फंड से अपने-अपने गांव को पूरा विकास करा रहे हैं।

About Jan Jagran Media Manch

A group of people who Fight Against Corruption.

Check Also

किसानो में गुस्सा, सिंधु बॉर्डर पर सुरक्षा कड़ी, पैरा मिलिट्री फोर्स तैनात

कृषि कानून रद्द करने की मांग को लेकर आंदोलन कर रहे किसानों व सरकार के …