Breaking News

राज्यपाल ने CM रावत से 28 मार्च तक बहुमत साबित करने को कहा

दिल्ली: उत्तराखंड विधानसभा में सत्ताधारी कांग्रेस के नौ सदस्यों के अपनी सरकार के खिलाफ बगावत के एक दिन बाद आज राज्यपाल कृष्णकांत पाल ने मुख्यमंत्री हरीश रावत तो 28 मार्च तक सदन में अपना बहुमत साबित करने को कहा है। राजभवन के एक अधिकारी ने बताया कि रावत को पत्र लिखकर राज्यपाल ने 18 मार्च को विधानसभा में हुए घटनाक्रम के संदर्भ में उन्हें 28 मार्च तक सदन में विश्वासमत हासिल करने के निर्देश दिए हैं। अधिकारी ने बताया कि यह पत्र मुख्यमंत्री को भेज दिया गया है।
हरीश रावत की मनमानी ने बनाया बागी

उत्तराखंड के असंतुष्ट विधायकों का आरोप है कि राज्य की हरीश रावत सरकार जनता से किए वादों को पूरा करने और जन सामान्य की समस्याओं का समाधान करने में असफल रही है इसलिए उन्हें विरोध का रास्ता अपनाने को बाध्य होना पड़ा ।
खानपुर के असंतुष्ट विधायक कुंवर प्रणव सिंह चैंपियन ने आज एक न्यूज एजैंसी से कहा कि मुख्यमंत्री हरीश रावत ने दो साल पहले उन्हें आश्वासन दिया था कि वह स्वच्छ सरकार देंगे लेकिन मुख्यमंत्री अपने वादे पर खरे नहीं उतरे। इन दो सालों के दौरान राज्य में जंगल राज कायम हो गया है और जनता से सिर्फ वादे ही किए जा रहे हैं । प्रशासन जन प्रतिनिधियों की सुनने को तैयार नहीं है और मुख्यमंत्री के आसपास के लोग सत्ता चला रहे हैं ।
जसपुर के विधायक शैलेन्द्र मोहन सिंघल ने कहा कि उत्तराखंड सरकार ‘वन मैन शो’ बनकर रह गई है। मुख्यमंत्री किसी मंत्री या विधायक की नहीं सुनते हैं। वह और उनके आसपास घिरे रहने वाले लोग जो चाहते हैं वही हो रहा है और अन्य किसी की नहीं सुनी जा रही है।
वहीं, प्रताप नगर के विधायक विक्रम सिंह रावत ने बागी विधायकों का साथ देने संबंधी खबरों का खंडन करते हुए कहा कि वह सरकार के साथ हैं और उनके असंतुष्ट विधायकों के साथ जाने की अटकलें गलत है। उन्होंने यह भी दावा किया कि असंतुष्ट विधायकों में से कुछ जल्दी ही वापस लौट रहे हैं। उन्हें मनाने का दौर चल रहा है। इस बीच असंतुष्ट विधायक सुबोध उनियाल ने कोई प्रतिक्रिया देने से इनकार किया है जबकि शैल वाला रावत और अमृता रावत का फोन बंद है।
आपको बता दें कि कल विधानसभा में कांग्रेस के नौ विधायकों ने बगावत कर दी और भारतीय जनता पार्टी के सरकार बनाने के दावे का समर्थन किया है। इसके बाद सभी विधायक भाजपा अध्यक्ष के साथ राज्यपाल से मिलकर सरकार को बर्खास्त करने की मांग की थी। देर रात सभी विधायक चार्टर्ड प्लेन से दिल्ली रवाना हो गए थे।

About Jan Jagran Media Manch

A group of people who Fight Against Corruption.

Check Also

शिक्षा मित्रों ने कोविड 19 सर्वेक्षण डियुटी लगाने में की जा रही मनमानी पर जताया आक्रोश

राजधानी लखनऊ में  चिनहट ब्लाक के शिक्षामित्रों ने कोविड 19 सर्वेक्षण में मनमानी तरीके से …