Breaking News

चार वर्षों में आतंकी मामलों में दोषी तीन को फांसी दी गई

मुम्बई में 1993 के श्रृंखलाबद्ध बम धमाकों के सिलसिले में मौत की सजा पाने वाले एकमात्र दोषी याकूब मेमन को आज सुबह फांसी दे दी गई और इसके साथ ही वह पिछले चार वर्षों में आतंकी मामलों में ऐसा तीसरा दोषी बन गया जिसे फांसी दी गई। याकूब मेमन को आज नागपुर केंद्रीय कारागार में फांसी दी गई जिसका आज 53वां जन्मदिन था। मेमन से पहले संसद पर हमला मामले के दोषी मोहम्मद अफजल गुरु को नौ फरवरी 2013 को तिहाड़ जेल में सुबह आठ बजे फांसी दी गई थी। अफजल गुरु दिसंबर 2001 में संसद पर हमले की साजिश रचने के मामले में दोषी करार दिया गया था और उच्चतम न्यायालय ने 2004 में उसे मौत की सजा सुनाई थी। भारी हथियारों से लैस पांच आतंकवादी 13 दिसंबर 2001 को संसद भवन परिसर में घुस गए थे और उन्होंने अंधाधुंध गोलीबारी करके नौ लोगों की जान ले ली थी।

अफजल गुरु से पहले मुम्बई पर 26:11 आतंकी हमले में एकमात्र जीवित पकड़े गए पाकिस्तानी बंदूकधारी अजमल कसाब को 21 नवंबर 2012 को पुणे के येरवदा केंद्रीय कारागार में फांसी दी गई थी जो एक गोपनीय अभियान के तहत हुई। पाकिस्तान स्थित लश्कर ए तैयबा के 10 आतंकवादी 26 नवंबर 2008 को मुम्बई पहुंचे और उन्होंने शहर के कई महत्वपूर्ण स्थानों को निशाना बनाने हुए अंधाधुंध गोलीबारी की जिनमें होटल ताज और छत्रपति शिवाजी टर्मिनस शामिल हैं। इसमें कुछ विदेशियों समेत 166 लोग मारे गए थे। इस दौरान 60 घंटे तक चले अभियान में नौ आतंकवादी मारे गए थे और कसाब को जिन्दा पकड़ लिया गया था।

 

About Jan Jagran Media Manch

A group of people who Fight Against Corruption.

Check Also

शिक्षा मित्रों ने कोविड 19 सर्वेक्षण डियुटी लगाने में की जा रही मनमानी पर जताया आक्रोश

राजधानी लखनऊ में  चिनहट ब्लाक के शिक्षामित्रों ने कोविड 19 सर्वेक्षण में मनमानी तरीके से …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *