Breaking News

सपा एम् एल सी के बगावती तेवर मोदी को लिखा पत्र

 दूसरों की बात छोडिये अब तो यूपी में लोकसेवा आयोग में ओबीसी के नाम पर सिर्फ यादवों की भर्ती को लेकर समाजवादी पार्टी (सपा) में भी बगावती आवाजें  उठने लगी है।  पार्टी के एमएलसी देवेंद्र प्रताप सिंह ने इस मामले की सीबीआई जांच कराने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा  है। देवेंद्र ने चिट्ठी में लिखा है कि बीते दो साल में आयोग से की गई नियुक्तियों में जमकर धांधली हुई है और एक ही वर्ग के लोगों को ज्यादातर नौकरी मिली है। देवेंद्र का कार्यकाल नवंबर 2016 तक है, लेकिन माना जा रहा है कि वह सपा को जल्दी ही अलविदा कहने वाले हैं। देवेंद्र, गोरखपुर-फैजाबाद स्नातक सीट से सपा के एमएलसी चुने गए थे। उन्होंने पीएम को भेजी चिट्ठी में माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड, उच्चतर शिक्षा सेवा चयन बोर्ड और स्टाफ सेलेक्शन कमीशन समेत सभी शीर्ष चयन संस्थाओं में भ्रष्टाचार का आरोप लगाया है। देवेंद्र ने कहा कि अगर इस मामले में तुरंत कदम नहीं उठाया जाता, तो आने वाले दिनों में सूबे में ईमानदार अफसरों का अकाल पड़ जाएगा। उन्होंने कहा कि यूपी पीसीएस में 86 एसडीएम में 54 यादव इसलिए चुने गए क्योंकि वहां अक्षम लोग बैठे हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि ये लोग सीटों की बोली लगाकर बेच रहे हैं।
देवेंद्र ने कहा कि पहले सफल अभियर्थियों का रोल नंबर घर के पते के साथ प्रकशित किया जाता था, लेकिन अब घोटाला छिपाने के लिए पता गायब कर दिया गया। उन्होंने कहा कि अयोग्य और अक्षम लोगों से योग्यता की उम्मीद नहीं की जा सकती। देवेंद्र ने ये आरोप भी लगाया कि घोटाला छिपाने के उद्देश्य से यूपी लोकसेवा आयोग के कर्ताधर्ताओं ने साल 2012 में करई गई परीक्षा की उत्तर पुस्तिकाएं तक जला दी हैं।

देवेंद्र प्रताप सिंह का कहना है कि जिस तरह सुप्रीम कोर्ट का कॉलेजियम होता है, उसी तरह यूपी लोकसेवा आयोग के लिए भी कॉलेजियम होना चाहिए। इससे राज्य सरकार का कोई दखल नहीं होगा। इस कॉलेजियम में संघ लोकसेवा आयोग का वर्चस्व होना चाहिए, ताकि मेधावी अभ्यर्थी चुने जाएं और यूपी को विकास के रास्ते पर ले जा सकें। उन्होंने कहा कि यूपी लोकसेवा आयोग में ही धांधली नहीं हुई है, बल्कि उच्च शिक्षा और माध्यमिक शिक्षा में भी घोर लापरवाही बरती जा रही है। सच को सामने लाने के लिए ही सीबीआई जांच कराने की जरूरत है। देवेंद्र का तो ये तक आरोप है कि यूपी में हुई हर सरकारी नियुक्ति की परीक्षा शक के घेरे में है।

About Jan Jagran Media Manch

A group of people who Fight Against Corruption.

Check Also

विकास के साथ हर छोटे-बड़े अपराध में शामिल भाई की भी ना ही हिस्ट्रीसीट खुली न ही अपराधियों की सूची में नाम डाला गया,जांच में हुआ खुलासा

दहशतगर्द विकास दुबे का सगा भाई 16 साल से जमानत पर बाहर है। वह विकास …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *