Breaking News

भाजपा सांसद और उनके समर्थकों ने सदर तहसीलदार को घर में घुसकर पीटा

उत्तर प्रदेश के कन्नौज जिले से भाजपा सांसद सुब्रत पाठक और 20-25 भाजपाइयों ने मंगलवार दोपहर सदर तहसीलदार के घर में घुसकर हमला कर दिया। जमीन पर गिराकर पीटा। 10-15 मिनट तक यह घटना तहसीलदार की पत्नी और आठ साल की बच्ची के सामने हुई। मारपीट में सदर तहसीलदार को कई चोटें आई हैं। घटना के बाद भाजपाई दो बाइकें छोड़कर भाग निकले।

एक बाइक पर भाजपा के झंडे के रंग का निशान और जिला मीडिया प्रभारी लिखा हुआ है। दोपहर करीब सवा दो बजे हुई इस घटना के बाद पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों में हड़कंप मच गया। आलाधिकारी सदर तहसील पहुंच गए। तहसीलदार से पूरी घटना की जानकारी ली। तहसीलदार का एडीएम और सदर एसडीएम की मौजूदगी में जिला अस्पताल में मेडिकल परीक्षण कराया गया।घटना को लेकर प्रशासनिक अधिकारियों और राजस्व कर्मियों में रोष है। एक लेखपाल भी घायल हुआ है। सदर तहसीलदार अरविंद कुमार ने बताया कि सांसद सुब्रत पाठक की ओर से उन्हें अनाज वितरण के लिए कुछ लोगों के नामों की एक सूची भेजी गई थी। इस सूची को उन्होंने नायब तहसीलदार को देकर जल्द अनाज वितरण के निर्देश दिए थे। दोपहर 12:59 बजे सांसद सुब्रत पाठक का उनके पास फोन आया।उन्होंने सूची में शामिल लोगों तक राशन न पहुंचने की बात कही। इस पर नायब तहसीलदार की ओर से जल्द राशन वितरण के लिए बताया। इतने में सांसद गाली गलौज करते हुए धमकी देने लगे। कहा कि वह कार्यालय पहुंच रहे हैं। सांसद से धमकी मिलने के बाद वह डर गए। इसकी जानकारी डीएम, एडीएम और एसडीएम सदर को दी। एसडीएम सदर के कहने पर वह कार्यालय से आवास पर चले गए।करीब सवा दो बजे सांसद 20-25 लोगों के साथ आवास पर पहुंच गए। यह लोग दरवाजा पीटने लगे। इससे वह लोग भयभीत हो गए। पत्नी और बच्चे रोने लगे। उन्हें लगा कि अगर वह बाहर नहीं निकले तो यह लोग अंदर घुस आएंगे। पत्नी के साथ भी मारपीट कर सकते हैं। इसके बाद वह बाहर निकले। सांसद आवास में बने कार्यालय में उनकी कुर्सी पर बैठे थे। सांसद ने उन्हें देखते ही सूची में शामिल लोगों को राशन न देने की बात पूछी।वह सफाई देने लगे तभी सांसद ने मोबाइल छीन लिया। उन्हें पीटने लगे। इसके बाद साथ आए लोगों ने जमीन पर गिराकर लात-घूसों से पीटना शुरू कर दिया। शोर सुनकर बचाने आए लेखपाल रामबरन और अमित राय को दौड़ा लिया। रामबरन बच गए। अमित राय को पकड़कर पीट दिया। भागने में दो भाजपाई बाइक छोड़कर भाग गए। इन्हें सदर कोतवाली पुलिस ने कब्जे में ले लिया। सांसद और भाजपाइयों के जाने के बाद सदर तहसीलदार ने घटना की जानकारी आलाधिकारियों को दी।इस पर हड़कंप मच गया। कुछ ही देर में डीएम राकेश कुमार मिश्रा, एसपी अमरेंद्र प्रसाद सिंह, एडीएम गजेंद्र कुमार, सदर एसडीएम शैलेष कुमार मौके पर पहुंच गए। सदर कोतवाली से पुलिस फोर्स तहसील पहुंच गई। अफसरों ने तहसीलदार से घटना की जानकारी ली। इसके बाद एडीएम और सदर एसडीएम के साथ मेडिकल के लिए जिला अस्पताल भेजा। सदर एसडीएम शैलेष कुमार ने बताया कि घटना बेहद दुखद है। इस तरह प्रशासनिक अधिकारियों पर हमले चिंता का विषय हैं।

About Jan Jagran Media Manch

A group of people who Fight Against Corruption.

Check Also

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को जान से मारने की धमकी

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को जान से मारने की धमकी मिली है। धमकी का …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *