Breaking News

बर्थडे पार्टी में बच्चों को बनाया बंधक, पुलिस पर की फायरिंग,बच्चों को छुड़ाने के लिए कमांडो रवाना

फर्रुखाबाद जिले के मोहम्मदाबाद में एक हत्या के आरोपी सिरफिरे ने बेटी के जन्मदिन के बहाने गांव के करीब एक दर्ज़न से अधिक  बच्चों को घर बुलाकर उन्हें तहखाने में उन्हें बंधक बना लिया। छत से कई फायर कर स्वाट टीम के दो सिपाहियों व मुखबिरी करने वाले ग्रामीण को सामने बुलाने की उसने मांग की।

ग्रामीणों की सूचना पर कोतवाल के पहुंचने के बाद उसने  फायरिंग कर दी। हथगोला फेंक दिया। कोतवाल व दीवान हथगोले की गिट्टी से घायल हो गए। एसपी व विधायक की मौजूदगी में समझाने गए ग्रामीण पर सिरफिरे ने फायर कर दिया। इससे ग्रामीण के पैर में गोली लग गई और वह घायल हो गया।

बताया जाता है की मोहम्मदाबाद कोतवाली क्षेत्र के गांव कथरिया निवासी सुभाष बाथम की बेटी गौरी का गुरुवार को जन्मदिन था। इसमें सुभाष ने मोहल्ले के कई  बच्चों को अपने घर बुलाया। जन्मदिन मनाने के बाद शाम को चार बजे उसने बच्चों को घर के तहखाने में बंद कर दिया। इसके बाद शराब के नशे में छत पर चढ़ कर चीखने लगा कि अब उसे पुलिस से पकड़वाने का नतीजा भुगतना पड़ेगा।इस पर मोहल्ले के लोग एकत्र हो गए। सूचना पर कोतवाल फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे उन्होंने सुभाष को बाहर निकलने के लिए कहा तो वह तमंचा लेकर छत पर चढ़ गया और पुलिस को ललकारते हुए फायरिंग करने लगा। उसने चार-पांच फायर करने के बाद एक हथगोला भी  फेंका जिससे वहां दहशत फैल गई।

हथगोले से निकली गिट्टी कोतवाल राकेश कुमार के हाथ में व दीवान जयवीर यादव के पैर में लगी।  इसके बाद सुभाष फिर  कमरे में चला गया  इधर  पुलिस मकान की छत पर पहुंच गई।समाचार लिखे जाने तक सुभाष को पुलिस गिरफ्तार और बंधक बच्चों को  निकालने का प्रयास कर रही थी ।

ग्रामीणों के अनुसार सुभाष पर गांव के ही मेघनाथ की 2001 में हत्या कर करने का आरोप है। उस मामले में वह जमानत पर चल रहा है। करीब चार माह पूर्व स्वाट टीम ने उसे चोरी के मामले में पकड़ ले गई थी तभी से वह मोहल्ले के लोगों से रंजिश मानता है। उसका कहना है कि मोहल्ले के लालू तिवारी ने ही उसे पकड़वाया था फिलहाल  मौके पर कई थानों की फोर्स पहुंच गई है ।

बच्चों के परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल

घटना की जानकारी पर एसपी डॉ. अनिल मिश्रा, एएसपी त्रिभुवन सिंह, सीओ राजवीर सिंह, स्वाट टीम प्रभारी दिनेश गौतम, जहानगंज एसओ पूनम जादौन व भाजपा विधायक नागेंद्र सिंह राठौर मौके पर पहुंच गए थे स्थानीय  विधायक ने आवाज लगाकर सुभाष से  कहा कि तुम बच्चों को छोड़ दो, मैं तुम्हारे प्रकरण में बात कर समस्या का निस्तारण कराऊंगा।

इस पर सुभाष ने गांव के लल्लू सिंह, बालू दुबे समेत स्वाट टीम के सिपाही सचेंद्र व अनुज तिवारी को बुलाने के बाद ही बच्चों को छोड़ने की बात कही। पुलिस ने बालू दुबे को बुलाया। बालू दुबे ने सुभाष से गेट के पास जाकर बात की और भरोसा दिया कि उसको न्याय मिलेगा। अचानक सुभाष ने गेट के नीचे से बालू दुबे पर तमंचे से फायर कर दिया। इसमें बालू दुबे के पैर में गोली लग गई और वह घायल हो गए।

उन्हें सीएचसी में भर्ती कराया गया। इसके बाद सुभाष अंदर से आवाज देकर विधायक व स्वाट के दोनों सिपाहियो समेत गांव के ही लालू तिवारी को बुलाने पर ही बच्चों को छोड़ने की बात कहकर पुलिस पर दबाव बनाने लगा। सुभाष ने एसपी को बताया कि लालू तिवारी की मुखबरी पर ही अकारण चार माह पहले स्वाट टीम ने उसको पकड़कर प्रताड़ित किया था।ग्रामीणों की अनुसार सुभाष बाथम की पुत्री गौरी के जन्मदिन के कार्यक्रम में गांव के ही अरुण दुबे का पुत्र अक्षय (12), मुनेश कुमार का पुत्र प्रशांत, कृष्णा, पुत्री नैंसी, नीरज कुमार का पुत्र पारस व पुत्री पायल के अलावा पंक्षीलाल बाथम का पुत्र किशन, प्रशांत, पुत्री खुशी, आशाराम की पुत्री गंगा, जमुना, लालाजीत की पुत्री गौरी शामिल होने गए थे। जब बच्चों को बंधक बनाने की बात पता चली तो बच्चों के माता पिता सुभाष के घर के बाहर पहुंचे और रोने पीटने लगे। लेकिन सुभाष ने बच्चों को छोड़ने से इनकार कर दिया। बच्चों के माता पिता का रो-रोकर बेहाल हैं। अब कमांडो की भी टीम के यहाँ जल्द ही पहुँचने की जानकारी मिल रही है !

 

About Jan Jagran Media Manch

A group of people who Fight Against Corruption.

Check Also

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को जान से मारने की धमकी

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को जान से मारने की धमकी मिली है। धमकी का …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *