Search
Monday 17 February 2020
  • :
  • :
Latest Update

संवैधानिक अधिकारों को पाने के लिए संख्यानुपात में हिस्सेदारी जरूरी-पी सी कुरील

संवैधानिक अधिकारों को पाने के लिए संख्यानुपात में हिस्सेदारी जरूरी-पी सी कुरील
लखनऊ विशेष संवादाता  ! अवसर था राष्ट्रीय भागीदारी आन्दोलन के प्रमुख पी सी कुरील के जन्म दिन कार्यक्रम का, जिसे उनके चहेते युवाओं और कार्यकर्ताओं ने आयोजित किया था. इसी दौरान श्री कुरील को  बुके और उपहार  देने पहुंचे शुभचिंतकों ने राष्ट्रीय भागीदारी आन्दोलन को लेकर अपने अपने विचार और सुझाव  भी रखे. लोग आते रहे जाते रहे यह सिलसिला करीब ४ बजे शाम तक चलता रहा !
पूर्व सांसद इलियास आजमी ने बदलते राजनीतिक परिद्रश्य पर प्रकाश डालते हुए लोगों से राजनीति में  सही चयन करने पर जोर दिया. राष्ट्रीय  भागीदारी आन्दोलन के संयोजक पी सी कुरील ने   एससी/एसटी, ओबीसी सहित सभी वर्गों को  संख्यानुपात में हिस्सेदारी की बात को प्रमुखता से   रखा उन्होंने राष्ट्रीय भागीदारी एक्सन-प्लान को विस्तार से लोगों के सामने रखते हुए लोगों को इस मुहिम में साथ जुड़ने व साथ चलने की अपील की. वरिष्ठ साहित्यकार विचारक हरीपाल सिंह ने संवैधानिक अधिकारों की सुरक्षा को सभी का दायित्व बताते हुए संवैधानिक दायरे में रहकर राष्ट्रीय भागीदारी की इस मुहिम को  आगे बढाने की बात करते हुए  कहा कि  ‘यह आन्दोलन किसी पार्टी, संगठन के ना पक्ष में है ना ही विपक्ष में यह सिर्फ और सिर्फ बाबा साहेब के दिए अधिकारों की सुरक्षा व उनके कारवां को बढ़ाने के लिए है।’
कामरेड डी के यादव ने कहा कि देश में  90 प्रतिशत से ज्यादा संसाधनों व्यवस्थाओं पर  चंदलोगों  ने कब्ज़ा किया हुआ  है, ऐसे में बहुसंख्यक समाज को अपने संवैधानिक अधिकारों को पाने के लिए ऐसे आन्दोलन की जरुरत है  जिससे उसे धनार्जन के समस्त स्रोतों सहित शासन-प्रशासन में संख्यानुपात में हिस्सेदारी का मार्ग प्रशस्त हो सके। हाजी फहीम सिद्दीक़ी ने कहा कि आन्दोलनों के इतिहास में राष्ट्रीय भागीदारी आन्दोलन  पत्थर की नीव साबित होगा. बौद्धिस्ट भंते सुमित  ने भी अपने विचार रखे डॉ फ़िरोज़ हुदा ने भी श्री कुरील को जन्म दिन की बधाई दी. प्रोफ़ेसर डॉ राम कुमार  ने कहा की यह अच्छी बात  है की बहुसंख्यको के हक की बात होगी किन्तु आर्थिक और सामाजिक भागीदारी की लड़ाई एक साथ लड़ना मुस्किल होगा  इस अवसर पर समाजसेवी शमशेर गाजीपुरी , अस्वनी गौतम ,डॉ सुंदर दास ,सुरेश  उजाला ,प्रकाश रतन पंजम सहित कई समाजसेवी ,साहित्यकार ,कवि,पत्रकार भी उपस्थित रहे .



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *