Search
Sunday 19 January 2020
  • :
  • :
Latest Update

पूर्व विधायक किसानों के साथ धरने पर बैठे

पूर्व विधायक किसानों के साथ धरने पर बैठे

एक लापरवाही से जहां सिंचाई विभाग घिर गया हैं वहीं किसानों का दर्द भी बढ़ गया है। बिना किसानों को विश्वास में लिए ही नहरों की खुदाई का कार्य शुरू करने से मुश्किलें बढ़ गई हैं और किसानों का गुस्सा सातवें आसमान पर पहुंच गया है। किसानों ने आरपार संघर्ष का ऐलान कर दिया है, यहां तक कि अब किसान एक भी इंच भूमि की खुदाई बिना नए सर्किल रेट पर मुवावजा दिए होने देने को तैयार नहीं हैं। परसा गोडरी गांव में किसानों के साथ पूर्व सपा विधायक बैजनाथ दूबे धरने पर बैठ गए हैं।

किसानों का आंदोलन परसा गोडरी गांव से शुरू होकर ठकुरापुर तक पहुंच गया है। बुधवर को किसानों ने परसा गोडरी में धरना देना शुरू कर दिया है। किसानों का आरोप है कि सिंचाई विभाग किसानों के साथ अन्याय कर रहा है। धनईपट्टी रजहबा नहर को पूरा करने के लिए सिंचाई विभाग ने बीते शनिवार को कार्य शुरू कराना चाहा तो किसान विरोध करने लगे। विरोध परसा गोडरी गांव से शुरू हुआ था। किसानों का आरोप है कि वर्ष 2001-2003 के बीच सरयू नहर खंड के अधिकारियों ने नहर खुदाई का कार्य दिखाकर 55 लाख का घपला कर लिया। फर्जी भुगतान को हड़पने के लिए वर्ष 2010 में गुपचुप तरीके से किसानों के भूमि का अधिग्रहण कर लिया।

किसान मनोज कुमार कहते हैं कि भूमि अधिग्रहण नियम 2013 के तहत अधिग्रहण के बाद कार्य न होने पर 5 वर्ष बाद अधिग्रहण स्वत: समाप्त हो जाता है। अब किसान पुराने अधिग्रहण पर अपनी भूमि नही देंगे और न ही नहर खुदाई करने देंगे। किसान रजेन्द्र सिंह, कलावती, शिवबोध सिंह, कलावती, बेनी माधव सिंह, वीरेन्द्र कुमार आदि ने जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपा था।



A group of people who Fight Against Corruption.


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *