Breaking News

अवैध खनन रोकने में फारेस्ट गार्ड की पीटकर हत्या

अवैध खनन में लिप्त लोगों के हौसले कितने बुलंद हैं इसका एक नमूना मांची वन रेंज के पड़री गांव में उस समय देखने को मिला जब शुक्रवार की रात करीब 9 बजे अवैध खनन की सूचना पर छापेमारी करने गई वन विभाग की टीम पर अवैध खनन में लिप्त लोगों ने ग्रामीणों के साथ मिलकर हमला बोल  दिया। इसमें गंभीर रूप से घायल फॉरेस्ट गार्ड मोहन मोर्य 50 वर्ष की मौत हो गई। जबकि दूसरा फॉरेस्ट गार्ड रामप्रकाश गंभीर रूप से घायल है ।

पुलिस ने मृतक के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए जिला अस्पताल भेज दिया है। इस घटना से हड़कंप की स्थिति है। पुलिस आरोपियों की तलाश में जुटी हुई है।
जानकारी के अनुसार मांची वन रेंज के अधिकारियों को सूचना मिली कि क्षेत्र के पड़री गांव में पत्थर का अवैध रूप से खनन किया जा रहा है।
इसकी सूचना पर माची रेंजर बीवी सिंह अपने टीम के साथ मौके के लिए रवाना हुए। वहां पहुंचने पर उन्होंने अवैध खनन में एक ट्रैक्टर पकड़ा। साथ ही एक अन्य व्यक्ति को भी पकड़ कर वह ट्रैक्टर लेकर रास्ते में आ रहे थे। ट्रेक्टर पर फारेस्ट गार्ड मोहन भी सवार था।
रेंज कार्यालय पर पहुंचने से पहले ही रतुआ गांव में अवैध खनन में लिप्त लोगों ने वन विभाग की टीम पर हमला बोल दिया। लोगों ने लाठी डंडे के साथ ही पथराव कर करना शुरू कर दिया। इस घटना में रेंजर के साथ ही कई फॉरेस्ट गार्ड व अन्य मामले रूप से घायल हो गए।
जबकि फॉरेस्ट गार्ड मोहन मौर्य 50 वर्ष को गंभीर चोट आई। मामले की जानकारी होने पर डीएफओ संजीव कुमार सिंह समेत अन्य मौके पर पहुंच गए। साथ ही पुलिस भी पहुंची। पुलिस ने घायल मोहन को जिला अस्पताल पहुंचाया, लेकिन रास्ते में ही उसने दम तोड़ दिया पुलिस ने शव को कब्जे में ले लिया और पोस्टमार्टम के लिए जिला अस्पताल भेज दिया है। इस मामले में फिलहाल वन विभाग की ओर से तहरीर दे दी गई है। पुलिस मामले की जांच कर रही है आरोपी पुलिस की पकड़ से बाहर है।

About Jan Jagran Media Manch

A group of people who Fight Against Corruption.

Check Also

roadways  bus  silence

यूपी : यात्रियों को भटका रहे रोडवेज के बस ड्राइवर, जाना होता है कहीं, ले जाते हैं कहीं और

केस एक- कैसरबाग बस अड्डे से 9 अगस्त की सुबह सात बजे समर सिंह सवारी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *