Breaking News

नहीं है नोटबंदी से जुड़ी मौतों पर कोई सूचना-पीएमओ

नई दिल्ली – प्रधानमंत्री कार्यालय ने केंद्रीय सूचना आयोग को बताया है कि उसके पास नोट्बंदी के बाद हुई मौतों के बारे में कोई सूचना नहीं है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आठ नवम्बर 2016 को नोटबंदी की घोषणा की थी। पी एम् ओ  मुख्य जनसूचना अधिकारी (सीपीआईओ) ने केंद्रीय सूचना आयोग के समक्ष यह दावा किया है।केंद्रीय सूचना आयोग एक आर टी आई आवेदक की याचिका पर मामले की सुनवाई कर रहा था, जिसे आवेदन देने के बाद आवश्यक 30 दिनों के अंदर सूचना मुहैया नहीं कराई गई थी। तत्कालीन वित्त मंत्री अरुण जेटली ने राज्यसभा में एक सवाल के जवाब में 18 दिसम्बर 2018 को कहा था कि उपलब्ध सूचना के मुताबिक नोटबंदी के दौरान भारतीय स्टेट बैंक के तीन अधिकारी और इसके एक ग्राहक की मौत हो गई थी। बताया जाता है कि नोटबंदी से जुड़ी मौत को सरकार ने पहली बार स्वीकार किया था।

देशभर से नोटबंदी से जुड़े मामलों में लोगों की मौत की खबर आई थी। नीरज शर्मा ने पीएमओ में आरटीआई आवेदन देकर जानना चाहा कि नोटबंदी के बाद कितने लोगों की मौत हुई थी और उन्होंने मृतकों की सूची मांगी थी। पीएमओ से निर्धारित 30 दिनों के अंदर जवाब नहीं मिलने पर शर्मा ने सीआईसी का दरवाजा खटखटाकर अधिकारी पर जुर्माना लगाए जाने की मांग की। सुनवाई के दौरान पीएमओ के सीपीआईओ ने आवेदन का जवाब देने में विलंब के लिए बिना शर्त माफी मांगी। उन्होंने कहा कि शर्मा ने जो सूचना मांगी है वह आरटीआई कानून की धारा 2 (एफ) के तहत ‘सूचना’ की परिभाषा में नहीं आती है।
सूचना आयुक्त सुधीर भार्गव ने कहा, ‘दोनों पक्षों की सुनवाई करने और रेकॉर्ड देखने के बाद आयोग ने पाया कि शिकायतकर्ता ने आरटीआई आवेदन 28 अक्टूबर 2017 को दिया था और उसी दिन वह जवाब देने वाले अधिकारी को मिल गया था। सीपीआईओ ने सात फरवरी 2018 को उन्हें जवाब दिया। इस तरह जवाब दिए जाने में करीब दो महीने का विलंब हो गया।’ हालांकि उन्होंने कोई जुर्माना नहीं लगाया।

About Jan Jagran Media Manch

A group of people who Fight Against Corruption.

Check Also

लॉकडाउन में खोलकर बैठ गया फर्जी स्टेट बैंक की ब्रांच 3 माह बाद पकड़ा गया

 तमिलनाडु पुलिस ने  फर्जी बैंक खोलने वाले तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है। कडलोर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *