Breaking News

प्रियंका को 41 और सिंधिया 39 सीटों की जिम्मेदारी

Lok Sabha Elections 2019: कांग्रेस (Congress) ने उत्तर प्रदेश के लिए नियुक्त दोनों प्रभारी महासचिवों प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi) और ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Madhavrao Scindia) को लोकसभा चुनाव के लिए मंगलवार को सीटों की संख्यावार जिम्मेदारी सौंप दी। प्रियंका गांधी को यूपी की कुल 41 लोकसभा सीटों और सिंधिया को 39 सीटों की जिम्मेदारी दी है। कांग्रेस के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल की ओर से जारी बयान के मुतबिक पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी ने इन दोनों महासचिवों के लिए सीटों की संख्या के निर्धारण को स्वीकृति प्रदान की।

प्रियंका को जिन सीटों की जिम्मेदारी सौंपी गई है उनमें अमेठी और रायबरेली के अलावा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संसदीय क्षेत्र वाराणसी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का गढ़ कही जाने वाली गोरखपुर सीट भी शामिल है। सिंधिया को सौंपी गई सीटों में कानपुर, कन्नौज, सहारनपुर और गाजियाबाद जैसी सीटें शामिल हैं।

पूर्वी यूपी की इन सीटों में कांग्रेस को मजबूत करने उतरेंगी प्रियंका गांधी वाड्रा
उन्नाव, मोहनलालगंज (आरक्षित), लखनऊ, रायबरेली, अमेठी, सुलतानपुर, प्रतापगढ़, जालौन (आरक्षित), झांसी, हमीरपुर, बांदा, फतेहपुर, कौशांबी (आरक्षित), फूलपुर, प्रयागराज, बाराबंकी (आरक्षित), फैजाबाद, अंबेडकरनगर, कैसरगंज, गोंडा, डुमरियागंज, बस्ती, संतकबीर नगर, महाराजगंज, गोरखपुर, कुशीनगर, देवरिया, बांसगांव (आरक्षित), लालगंज (आरक्षित), आजमगढ़, घोसी, सलेमपुर, बलिया, जौनपुर, मछलीशहर (आरक्षित), गाजीपुर, चंदौली, वाराणसी, भदोही, मीरजापुर, रॉबर्ट्सगंज (आरक्षित)

पश्चिमी यूपी की इस सीटों पर कांग्रेस को मजबूत करने उतरेंगे ज्योतिरादित्य
सहारनपुर, कैराना, मुजफ्फरनगर, बिजनौर, नगीना (आरक्षित), मुरादाबाद, रामपुर, संभल, अमरोहा, मेरठ, बागपत, गाजियाबाद, गौतमबुद्ध नगर, बुलंदशहर (आरक्षित), अलीगढ़, हाथरस (आरक्षित), मथुरा, आगरा (आरक्षित), फतेहपुर सीकरी, फिरोजाबाद, मैनपुरी, एटा, बदायूं, आंवला, बरेली, पीलीभीत, शाहजहांपुर (आरक्षित), खीरी, धौरहरा, सीतापुर, हरदोई (आरक्षित), मिश्रिख (आरक्षित), फर्रुखाबाद, इटावा (आरक्षित), बहराइच (आरक्षित), श्रावस्ती,कन्नौज, कानपुर, अकबरपुर,

About Rizwan Chanchal

Check Also

विकास के साथ हर छोटे-बड़े अपराध में शामिल भाई की भी ना ही हिस्ट्रीसीट खुली न ही अपराधियों की सूची में नाम डाला गया,जांच में हुआ खुलासा

दहशतगर्द विकास दुबे का सगा भाई 16 साल से जमानत पर बाहर है। वह विकास …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *