Breaking News

प्रदुम्न हत्याकांड:सुप्रीमकोर्ट ने केंद्र व हरियाणा सरकार से माँगा जबाब

 दिल्ली !  रेयान इंटरनेशनल स्कूल में 7 साल के बच्चे की हत्या के मामले में पिता की तरफ से दायर पिटीशन पर सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई। कोर्ट ने केंद्र सरकार, हरियाणा सरकार और एचआरडी मिनिस्ट्री को नोटिस भेजकर तीन हफ्ते के अंदर जवाब मांगा है। कोर्ट ने कहा कि यह एक स्कूल का मामला नहीं, बल्कि यह देश से जुड़ा मामला है। बता दें कि बच्चे के पिता वरुण ठाकुर ने कोर्ट में अपील कर सीबीआई जांच की मांग की थी। वरुण के वकील के मुताबिक, ‘हमने कहा है कि स्कूल की कमियों पर उसकी जिम्मेदारी तय की जाए। आयोग या ट्रिब्यूनल बनाया जाए।’ कोर्ट ने रेयान इंटरनेशनल स्कूल को भी नोटिस जारी किया है।

1) मामला क्या है?गुड़गांव के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में शुक्रवार को (8 सितंबर) को 7 साल के बच्चे का मर्डर कर दिया गया था। बॉडी टॉयलेट में मिली थी। इस मामले में पुलिस ने स्कूल बस के कंडक्टर अशोक कुमार को अरेस्ट किया था। आरोपी अशोक 8 महीने पहले ही स्कूल में कंडक्टर की नौकरी पर लगा था।

अशोक ने पुलिस  को बताया, ”मेरी बुद्धि भ्रष्ट हो गई थी। मैं बच्चों के टॉयलेट में था। वहां गलत काम कर रहा था। तभी वह बच्चा आ गया। उसने मुझे देख लिया। मैंने उसे पहले देखा धक्का दिया। फिर खींच लिया। वह शोर मचाने लगा तो मैं डर गया। फिर मैंने उसे दो बार चाकू से मारा। उसका गला रेत दिया।”

2) पिता ने सुप्रीम कोर्ट में की थी अपील-वरुण ने सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में पिटीशन लगाई थी, जिसे कोर्ट स्वीकार कर लिया था। वरुण ने केस की जांच सीबीआई से कराए जाने और स्कूलों में स्टूडेंट्स की सिक्युरिटी के लिए गाइडलाइंस जारी करने की मांग की है।

वरुण के वकील सुशील टेकरीवाल ने सुनवाई के बाद कहा कि सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में सीबीआई इस मामले की जांच करे, ताकि निष्पक्ष जांच हो सके।

3) सुप्रीम कोर्ट ने कहा- यह पूरे देश का मामला हैसोमवार को इस मामले की सुनवाई चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की अगुआई वाली बेंच ने की। बेंच में जस्टिस एएम खानविलकर और जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ थे। बेंच ने केंद्र, हरियाणा सरकार और सीबीएसई को नोटिस जारी किया है।

कोर्ट ने सीबीएसई से स्कूल में बच्चों की सेफ्टी और सिक्युरिटी के बारे में और ऐसे मामले में स्कूल मैनेजमेंट की जवाबदारी तय करने की गाइडलाइंस पर तीन हफ्ते के अंदर जवाब देने को कहा है।

– सुनवाई के दौरान बेंच ने कहा- “यह पिटीशन सिर्फ इस स्कूल तक सीमित नहीं है, बल्कि यह पूरे देश का मामला है।”

4)स्कूल की एक्टिंग प्रिंसिपल से पूछताछ, तबीयत बिगड़ी– सोमवार को पुलिस की पूछताछ के दौरान रेयान स्कूल की एक्टिंग प्रिंसिपल ने तबीयत खराब होने की शिकायत की। इसके बाद उन्हें हॉस्पिटल में भर्ती किया गया है। गुड़गांव साउथ के डीसीपी ने बताया कि एक्टिंग प्रिंसिपल से रविवार से पूछताछ की जा रही थी। मामले में जांच जारी हैं।

5) रेयान ग्रुप के दो अफसर अरेस्ट, 2 दिन की पुलिस रिमांड परसोमवार सुबह रेयान ग्रुप के नॉर्थ जोन हेड फ्रांसिस थॉमस और भोंडसी स्थित स्कूल कोऑर्डिनेटर को अरेस्ट कर लिया गया। सोहना रोड स्थित सदर पुलिस स्टेशन के थाना प्रभारी को भी सस्पेंड किया गया है। उधर, रेयान ग्रुप के सीईओ रेयान पिंटो ने बॉम्बे हाईकोर्ट में पिटीशन दायर करके एंटीसिपेटरी बेल (अग्रिम जमानत) देने की अपील की है। इस पर मंगलवार को सुनवाई हो सकती है। दोनों अरेस्ट अफसर को पुलिस ने दोपहर को कोर्ट में पेश किया। बाद में इन्हें 2 दिन की पुलिस रिमांड में भेज दिया।

6) नीतीश ने खट्टर से बात कीबिहार के सीएम नीतीश कुमार ने बताया कि मैंने इस मामले में हरियाणा सीएम मनोहर लाल खट्टर से बात की है। मैंने कहा है कि इस पर फौरन कार्रवाई होनी चाहिए। उधर, हरियाणा सीएम ने बच्चे के माता-पिता से बातचीत की। इस दौरान उन्होंने कहा कि जरूरत पड़ने पर वह सीबीआई जांच के लिए तैयार हैं। हरियाणा के एडीजीपी लॉ एंड ऑर्डर मोहम्मद अकील और एसीपी क्राइम अशोक बख्शी समेत और दूसरे अफसरों ने रेयान स्कूल का दौरा किया।

7) रविवार को हुआ था प्रदर्शन,थाना प्रभारी सस्पेंड रविवार को स्कूल में पेरेंट्स समेत सैकड़ों लोगों ने प्रदर्शन किया था। गुस्साए लोगों ने स्कूल के पास मौजूद एक शराब दुकान को आग के हवाले कर दिया। इस दौरान पुलिस ने लाठी चार्ज किया था। मीडिया को भी निशाना बनाया गया था। यह मामला मीडिया में तूल पकड़ने के बाद सोमवार को सरकार ने सोहना रोड स्थित सदर पुलिस स्टेशन के थाना प्रभारी को भी सस्पेंड कर दिया।

बताते चले की गुड़गांव के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में बच्चे प्रदुम्न के मर्डर से गुस्साए लोग रविवार को सड़कों पर उतर आए। स्कूल में तोड़फोड़ की, पास की एक शराब की दुकान में आग लगा दी। इस पर पुलिस ने उन पर लाठीचार्ज किया। प्रदर्शन में पेरेंट्स भी शामिल थे। उधर, हरियाणा के शिक्षा मंत्री रामबिलास शर्मा ने कहा, “स्कूल के खिलाफ कार्रवाई शुरू कर दी गई है। मालिक-मैनेजमेंट के खिलाफ केस दर्ज हो चुका है। अगर विक्टिम के माता-पिता को तसल्ली न हो तो सरकार किसी भी एजेंसी से जांच करा सकती है।” बच्चे के पिता ने सीबीआई जांच की मांग की है। रविवार शाम लोगों ने कैंडल मार्च भी निकला था

क्या है मामला?

ज्ञात हो की  रेयान इंटरनेशनल स्कूल में 8 सितंबर को 7 साल के बच्चे का मर्डर हो गया था। बच्चे की बॉडी स्कूल के टॉयलेट में मिली थी। उसका गला धारदार हथियार से रेता गया था। उसका एक कान भी पूरी तरह कटा पाया गया। बच्चा दूसरी क्लास में पढ़ता था। पुलिस ने इस मामले में बस कंडक्टर अशोक को अरेस्ट किया था ।

बच्चे के पिता ने की लोगों से अपील? बच्चे के पिता ने लोगों से अपील की, “जो पैरेंट्स हम लोगों को सपोर्ट कर रहे हैं, उनसे कहना चाहता हूं कि वे हिंसा ना करें। पुलिस अपना काम कर रही है। हमने साथ-साथ सीबीआई इन्क्वाइरी की मांग की है ताकि इस केस से जुड़ी हर बात सामने आ सके।’

मीडिया पर हमले की पॉलिटिशियंस ने की निंदा– स्कूल के बाहर प्रोटेस्ट के दौरान लाठीचार्ज में मीडिया वालों को निशाना बनाए जाने की पॉलिटिशियंस ने निंदा की है।  कांग्रेस लीडर बीएस हुडा ने कहा, “मीडिया पर हमला निंदाजनक है। लोकतंत्र में सरकार लाठी और गोलियों के सहारे काम नहीं कर सकती है। मीडिया लोकंत्र का हिस्सा है, जो लोगों की परेशानियों को सामने लाता है। उसे इस तरह से दबाना ठीक नहीं है।’
सीपीआई लीडर डी राजा ने कहा, “हरियाणा पुलिस मीडिया पर हमले के लिए कुख्यात हो गई है। ऐसा तब भी हुआ था, जब डेरा समर्थक प्रोटेस्ट कर रहे थे।
केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले  ने कहा, “पत्रकारों की सुरक्षा के लिए कानून बनना चाहिए। सरकार को उनकी मदद करनी चाहिए। हर राज्य ऐसे कानून बनाए। हम सीएम खट्टर से बात करेंगे।”

पुलिस वालों पर डायरेक्ट एक्शन लेंगे- खट्टर– खट्टर ने कहा, “हम मीडिया की आजादी का सपोर्ट करते हैं। जिन मीडियाकर्मियों को चोटें आई हैं, उनका इलाज किया जा रहा है। नुकसान की भी भरपाई की जाएगी। जो पुलिसवाले इसके लिए जिम्मेदार हैं, उन पर सीधे कार्रवाई की जाएगी।”

सांसद पप्पू यादव बच्चे के मां-बाप से मिले– जन अधिकार पार्टी (एल) के नेता और सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्‍पू यादव ने मारे गए बच्चे के पेरेंट्स से मुलाकात की। यादव ने कहा, “मंत्री- नेताओं के बच्चों के साथ ऐसा हादसा नहीं होता, मैं इस मामले को लोकसभा में उठाऊंगा और सीबीआई जांच की मांग करूंगा।”

कंडक्टर को तो फंसाया गया है: पेरेंट्स– स्कूल के बाहर प्रदर्शन करने वाले पेरेंट्स ने कहा, “हम मामले की मौजूदा जांच से संतुष्ट नहीं हैं। सीबीआई इसकी जांच करे। बस कंडक्टर को तो फंसाया गया है, स्कूल मैनेजमेंट को स्टूडेंट्स की सेफ्टी की जिम्मेदारी लेनी चाहिए।”

मेरे भाई को पीटा, दबाव डालकर गलत बयान दिलाया: बहन– आरोपी बस कंडक्टर अशोक कुमार के बहन-पिता ने उसका बचाव किया है। आरोपी की बहन ने कहा, “मेरे भाई को पीटा गया, दबाव डालकर उससे गलत बयान दिलाया गया।” बहन ने ये आरोप भी लगाया कि स्कूल की प्रिंसिपल ने पुलिस को रिश्वत दी है।

– आरोपी के पिता ने दावा किया, “मेरा बेटा ईमानदार है, उसे फंसाया गया है।” बता दें कि अशोक कुमार को 3 दिन की पुलिस रिमांड में भेज दिया गया है।

पुलिस का दावा- बस कंडक्टर ने जुर्म कबूला है गुड़गांव के डीसीपी सिमरदीप सिंह ने कहा था, “स्कूल बस के कंडक्टर ने बच्चे के साथ सेक्शुअल अब्यूज की कोशिश की। जब बच्चे ने चिल्लाने की कोशिश की तो कंडक्टर ने उसका मर्डर कर दिया।””कंडक्टर अपनी जेब में चाकू लिए हुए था। वह वारदात की नीयत से ही बच्चों के टॉयलेट में घुसा था। आरोपी ने पूछताछ में खुद इस बात को माना है। वो स्कूल में पिछले 6-8 महीनों से काम कर रहा था।

 बेटा बस से स्कूल नहीं जाता था: मां– कंडक्टर की गिरफ्तारी के बाद मृतक बच्चे प्रदुम्न की मां सुषमा ने कहा था कि बेटे की हत्या के पीछे मामला कुछ और है। मां ने कहा था, “मेरा बेटा तो बस से स्कूल जाता ही नहीं था तो बस कंडक्टर उसे क्यों मारेगा? मुझे पुलिस पर भरोसा नहीं है, इसकी सीबीआई जांच करे।”
– “हो सकता है कि मेरे बच्चे ने टॉयलेट में स्कूल से जुड़े कुछ लोगों को कुछ गलत करते हुए देख लिया हो, जिसके बाद सच्चाई को दबाने के लिए ही उसकी हत्या कर दी गई।

 

About Jan Jagran Media Manch

A group of people who Fight Against Corruption.

Check Also

शिक्षा मित्रों ने कोविड 19 सर्वेक्षण डियुटी लगाने में की जा रही मनमानी पर जताया आक्रोश

राजधानी लखनऊ में  चिनहट ब्लाक के शिक्षामित्रों ने कोविड 19 सर्वेक्षण में मनमानी तरीके से …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *