Breaking News

फिर मंत्री स्वाती सिंह ने किया कुछ ऐसा जिसको देखकर चौंके लोग

लखनऊ, संवाददाता !  बीते दिनों बियर बार का उद्घाटन कर विवादों में घिरी सीएम योगी आदित्यनाथ की मंत्री स्वाति सिंह एक बार फिर से चर्चाओं में हैं। दरअसल, मंत्री स्वाति सिंह ने मंगलवार को एक भंडारे के आयोजन के दौरान प्रसाद में 100-100 रुपए बांट दिए। उनकी इस अनुपम श्रद्धा को  सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया गया  फिर क्या था खबरिया चैनल इस खबर को ले उड़े  बात मुख्यमंत्री कार्यालय तक जा पहुँची एक बार फिर महिला मंत्री स्वाति सिंह चर्चा में आ गयीं  इसे संयोग कहे या भाग्य थोड़े से दिनों में चाहे-अनचाहे राजनीति की सीढ़ियां चढ़ी स्वाति सिंह का राजनीतिक सफर है बेहद दिलचस्प साल भर पहले एक हाउसवाइफ से अब यूपी सरकार में मंत्री बनी स्वाति सिंह की राजनीति में इंट्री बेहद नाटकीय रही। पति दयाशंकर सिंह बीजेपी के नेता थे। काफी कोशिश के बाद भी वह विधान परिषद का चुनाव नहीं जीत पा रहे थे। दूसरी बार चुनाव हारने के बाद बीजेपी उपाध्यक्ष दयाशंकर सिंह ने बसपा सुप्रीमो मायावती के खिलाफ एक विवादित बयान दे दिया। इस मामले में बीजेपी भी बैकफुट पर आ गई और दयाशंकर सिंह के बयान से  किनारा करते हुए उन्हें 6 साल के लिए पार्टी से निष्कासित कर दिया। लेकिन बसपा के नेताओंं ने जवाबी हमले की तैयारी कर ली थी। उन्होंने राजधानी लखनऊ में प्रदर्शन कर दयाशंकर सिंह पर जोरदार हमला किया, इसी दौरान बसपा नेताओं ने दयाशंकर की प​त्नी स्वाति सिंह और उनकी बेटी के खिलाफ अभद्र टिप्पणी कर दी। बस यहीं से स्वाति सिंह ने मायावती और बसपा नेताओंं के खिलाफ जो मोर्चा खोला वह उन्हें चाहे अनचाहे राजनीति की सीढ़ियां चढ़ाता ले गया।बीजेपी ने स्वाति सिंह के फायरब्रांड इमेज को देखते हुए उन्हें सीधे प्रदेश महिला मोर्चा का अध्यक्ष बना दिया। यही नहीं विधानसभा चुनावों के दौरान बीजेपी ने स्टार प्रचारकों की लिस्ट में भी स्वाति सिंह के जगह दी।

इसके बाद स्वाति ​को विधानसभा में टिकट मिलना भी तय हो गया था। हुआ भी वही। उन्हें लखनऊ की सरोजनी​नगर सीट से उम्मीदवार बनाया गया। जहां से बीजेपी तीन दशकों से जीत को तरस रही थी। स्वाति सिंह ने यह सीट बीजेपी की झोली में डाली और इसके बाद उन्हें योगी सरकार में मंत्री पद मिला। यही नहीं उनके पति दयाशंकर सिंह का निलंबन भी वापस ले लिया गया।
लेकिन मंत्री बनने के दो महीने के अंदर ही स्वाति सिंह विवादों में घिर गईं। पहले बियर बार की लांचिंग को लेकर और फिर बड़े मंगल के अवसर पर भंडारे के दौरान प्रसाद में 100-100 रुपए बांटने को लेकर स्वाति सिंह विवादों में घिरी हैं।स्वाति सिंह का जन्म और ज्यादातर पढ़ाई लखनऊ में हुई। वह राजपूत परिवार से हैं। बचपन से ही शांत स्वभाव की स्वाति शादी से पहले और बाद के जीवन में भी सामान्य महिला की तरह ही रहती थीं।
स्वाति सिंह ने 2001 में इलाहाबाद के मोती लाल नेहरू नेशनल इंस्टीट्यूट आॅफ टेक्नोलॉजी से एमएमएस की डिग्री ली है। 2007 में उन्होंने लखनऊ यूनिवर्सिटी से एलएलएम की डिग्री हासिल की। पति राजनीति में थे लेकिन स्वाति ​को इससे कोई लगाव नहीं था। वह अपने दो बच्चों के पालन पोषण में ही व्यस्त रहती थीं।

स्वाती सिंह को दयाशंकर सिंह प्रकरण के बाद बीजेपी ने अपने परिवर्तन सभाओं में मंच का हिस्सा बनाया था। उन्हें बोलने का भरपूर मौका दिया गया। इसके पीछे बीजेपी की रणनीति थी कि उन्हें एक बड़ी महिला नेता के रूप में प्रस्तुत कर यूपी चुनाव में फायदा लिया जाय और ऐसा हुआ भी। इससे ज्यादा बीजेपी को मायावती के जवाब में एक चेहरा मिल गया था। स्वाती सिंह मंच से मायावती पर सीधा निशाना भी साधती थीं। न सिर्फ राजनीतिक हलकों में बल्कि बीजेपी में भी यूपी चुनाव में स्वाती सिंह का नाम स्टार कैंपेनर के बतौर गूंजने लगा। हालांकि जब स्टार प्रचारकों की लिस्ट आई तो उनका नाम गायब मिला। इसके बाद स्वाति ने अपनी सीट पर जीत हासिल की। लेकिन अब स्वाति का नाम बार-बार विवादों से जुड़ने लगा है जो इस उभरती नेता के लिए बड़ा नुकसान साबित हो सकता है।

मंत्री के तौर पर स्वाति सिंह के पास इस समय एनआरआई, बाढ़ नियंत्रण, कृषि आयात, कृषि विपणन, कृषि विदेश व्यापार, महिला कल्याण मंत्रालय, परिवार कल्याण, मातृत्व और बाल कल्याण के प्रभार हैं।

About Jan Jagran Media Manch

A group of people who Fight Against Corruption.

Check Also

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को जान से मारने की धमकी

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को जान से मारने की धमकी मिली है। धमकी का …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *