Breaking News
mahndra singh dhoni
mahndra singh dhoni

धोनी के सन्यास की ये थीं 5 वजहें

महेंद्र सिंह धोनी ने अचानक टेस्ट क्रिकेट से संन्यास की घोषणा की लेकिन क्या उन्होंने यह फैसला भी अचानक ही लिया? ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट सीरीज के बीच में टेस्ट क्रिकेट से संन्यास की खबर ने भले ही लोगों को चौंका दिया हो लेकिन वह कई दिनों से इसके संकेत दे रहे थे।
एक अंग्रेजी अखबार की रिपोर्ट के अनुसार, धोनी ने कई बार संकेत दिए थे कि यह उनकी आखिरी सीरीज होगी। रिपोर्ट के अनुसार, धोनी के इस फैसले के पीछे की वजह भारतीय ड्रेसिंग रूम के बदलते समीकरण रहे। समीकरणों में यह बदलाव टीम मैनेजमेंट में रवि शास्त्री की एंट्री और विराट कोहली से उनकी बढ़ती नजदीकी से शुरू हुआ। इस नजदीकी के कारण टीम में कोच डंकन फ्लेचर का प्रभाव घटा जिनके साथ धोनी के प्रफेशनल रिश्ते बेहद अच्छे बताए जाते हैं। टीम में शास्त्री का प्रभाव बहुत बढ़ गया है और वह टीम के अधिकतर फैसलों में अहम भूमिका निभाते हैं।

भारतीय क्रिकेट टीम के अबतक के सफलतम कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने अचानक टेस्ट क्रिकेट से संन्यास ले लिया। उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ जारी टेस्ट सीरीज के अंतिम मैच का इंतजार भी नहीं किया और बीच में ही टेस्ट क्रिकेट को अलविदा कह दिया।
ऐसे में लोगों के मन में कई तरह के सवाल उठ रहे हैं। हर कोई जानना चाहता है कि आखिर धोनी पर कोई दबाव तो नहीं था? आखिर ऐसी क्या वजह रही होगी कि धोनी को अचानक संन्यास का फैसला लेना पड़ा? इन्हीं सवालों के जवाब ढूंढने के क्रम में कई तरह के कयास लगाए जा रहे हैं।
1. टीम पर बोझ

हमारे सहयोगी न्यूज चैनल टाइम्स नाउ के मुताबिक धोनी ने संन्यास के फैसले पर खुद ही टीम को बताया कि वह बोझ नहीं बनना चाहते थे।

2. सभी फॉर्मेट में खेलने का दबाव
बिना किसी पूर्व सूचना के संन्यास लेने के पीछे एक बड़ी वजह धोनी की खुद की मर्जी हो सकती है। शायद धोनी क्रिकेट के छोटे फॉर्मेट्स (वन डे और टी20) पर ध्यान केंद्रित करना चाहते हैं। उन्होंने कहा भी था कि तीनों फॉर्मेट (टेस्ट, वन डे और टी20) में खेलना उनके लिए मुश्किल हो रहा है।

3. लगातार हार
आंकड़ों के मुताबिक धोनी की कप्तानी में भारतीय क्रिकेट टीम ने विदेशों में 30 टेस्ट मैच खेले जिनमें भारत को महज 6 मैचों में जीत हासिल करने में ही कामयाबी मिली जबकि टीम इंडिया 15 मैच हार गई। कमजोर बैटिंग फॉर्म काफी समय से धोनी ने बल्लेबाजी के लिहाज से बहुत अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पा रहे थे। वह लंबे समय से फॉर्म में वापसी के लिए जूझते दिखे।

4. ‘विराट’ होता कोहली का कद

क्रिकेट विश्लेषक मानते हैं कि टीम इंडिया में विराट कोहली के बढ़ते कद ने भी धोनी को टेस्ट क्रिकेट से रिटायरमेंट के लिए मजबूर किया होगा। यहां तक कि पिछले कुछ समय से बीसीसीआई भी विराट कोहली को बढ़ावा दे रही है जिससे धोनी को लगा कि अब क्रिकेट बोर्ड में उनकी पकड़ ढीली पड़ रही है।
5. आईपीएल स्पॉट फिक्सिंग विवाद
आईपीएल स्पॉट फिक्सिंग में बार-बार नाम घसीटे जाने से भी धोनी की छवि थोड़ी धुंधली हुई। फिक्सिंग के आरोपों पर प्रतिक्रिया देते हुए वह चेन्नै सुपर किंग्स की कप्तानी छोड़ने का भी प्रस्ताव रख चुके हैं।

About Jan Jagran Media Manch

A group of people who Fight Against Corruption.

Check Also

असम और बिहार में बाढ़ से स्थिति गंभीर,करीब 37 लाख की आबादी बाढ़ से प्रभावित हुई

असम और बिहार में बाढ़ से स्थिति काफी गंभीर बनी हुई है और करीब 37 …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *