Search
Thursday 20 September 2018
  • :
  • :
Latest Update

भारत की कमजोरी बयां करते घूम रहे ओबामा ?

भारत की कमजोरी बयां करते घूम रहे ओबामा ?

जाते जाते ओबामा ने धार्मिक सहिष्णुता की पुरजोर वकालत करते हुए कहा था कि हर व्यक्ति को बिना किसी उत्पीड़न के अपनी आस्था का पालन करने का अधिकार है और भारत तब तक सफल रहेगा जब तक वह धार्मिक आधार पर नहीं बंटेगा यहाँ तक तो ठीक था लेकिन अब दूसरे देशों में भी भारत के अंदरूनी मसलों पर बयानबाज़ी कर आखिर क्या सन्देश देना चाह रहे हैं अमेरिकी राष्ट्रपति ओबामा !
एक बार फिर अपने बयानों में अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा है कि भारत में पिछले कुछ वर्षों में धार्मिक कट्टरता बढ़ी है। अगर आज महात्मा गांधी होते तो उन्हें इस बात पर बहुत धक्का लगता। ओबामा ने ये बातें हाई-प्रोफाइल नेशनल प्रेयर ब्रेकफास्ट के दौरान कहीं। ओबामा का इशारा भारत में पिछले कुछ वर्षों में बढ़ी धार्मिक उन्माद की घटनाओं की ओर था।
ओबामा ने अपने बयान में कहा है, ‘मैं और मिशेल अभी भारत से लौटे हैं। ये देश बहुत खूबसूरत, विविधताओं से भरा है, पर पिछले कुछ वर्षों में यहां कुछ मौकों पर एक धर्म के लोगों ने दूसरे धर्म के लोगों को निशाना बनाया है।’ हालांकि, ओबामा ने किसी धर्म विशेष का नाम नहीं लिया। ओबामा ने कहा कि गांधीजी ने भारत को आजाद कराने में अहम योगदान दिया था, अगर आज गांधी जी होते तो इस तरह की घटनाओं से वह भी आहत होते। वे अमेरिका और दुनिया के अन्य देशों से आए तीन हजार नेताओं के सम्मेलन में बोल रहे थे।
भारत यात्रा के आखिरी दिन भी ओबामा ने धार्मिक सहिष्णुता की पुरजोर वकालत करते हुए कहा था कि हर व्यक्ति को बिना किसी उत्पीड़न के अपनी आस्था का पालन करने का अधिकार है और भारत तब तक सफल रहेगा जब तक वह धार्मिक आधार पर नहीं बंटेगा।



A group of people who Fight Against Corruption.


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *