Search
Saturday 22 September 2018
  • :
  • :
Latest Update

नहीं थम रहीं ऑनर किलिंग की घटनाएँ

नहीं थम रहीं ऑनर किलिंग की घटनाएँ

मुजफ्फरनगर. उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश में ऑनर किलिंग के दो सनसनीखेज मामले सामने आए हैं। मुजफ्फरनगर में 19 साल की लड़की को खेत के पास पड़ोसी गांव के युवक के साथ देखने पर पिता और भाई आपा खो बैठे और उन्होंने लड़की की हत्या करने के बाद उसका चेहरा ईंट से कुचल डाला, ताकि उसकी पहचान न हो सके। दूसरी ओर, बालाघाट के कुरई में प्रेम प्रसंग और ऑनर किलिंग के मामले में तीन युवकों को गाड़ी में बंद कर जिंदा जला दिया गया।उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर के मलीरा गांव की 19 साल की दलित लड़की प्रतिभा को उसके भाई प्रदीप और पिता जगपाल ने मार डाला। दोनों ने अपना जुर्म कबूल कर लिया है। प्रदीप ने अपनी बहन और पड़ोसी गांव के शिबू को साथ-साथ देख लिया था। प्रदीप ने दोनों को दौड़ाकर पकड़ने की कोशिश की। लेकिन इस दौरान शिबू भाग निकला। प्रतिभा पकड़ी गई। पुलिस का कहना है कि इसके बाद प्रदीप प्रतिभा को घसीटकर खेतों की तरफ ले गया, जहां उसने अपने पिता की मदद से प्रतिभा की हत्या कर दी। पुलिस का कहना है कि हत्या के बाद प्रतिभा का चेहरा पहचाना न जा सके, इस वजह से पिता-पुत्र ने ईंट से प्रतिभा का चेहरा बुरी तरह कुचल दिया। प्रतिभा के एक अन्य भाई प्रभात ने एक अंग्रेजी अखबार से बातचीत में कहा है कि उसे इस बात का कोई दुख नहीं है कि उसकी बहन की हत्या कर दी गई। प्रभात के मुताबिक, अगर लोग जो मुझे बता रहे हैं, वह सही है तो मेरे मुझे अचरज नहीं है कि मेरे पिता ने उसे मार डाला। प्रभात मध्य प्रदेश में नौकरी करता है।
बालाघाट के वनग्राम धोबी टोला के पास घने जंगल में गुरुवार देर रात तीन युवकों को जिंदा जला दिया गया। पुलिस को शंका है कि तीनों युवक गांव की एक लड़की को वाहन में बैठाकर ले जाने की तैयारी में थे। जब लड़की पक्ष के लोगों को इस बात की खबर लगी तो उन्होंने गुस्से में आकर इस घटना को अंजाम दे दिया। मरने वालों में ग्राम बोरीखेड़ा का राजेश मानुनागोत्रा, रामजी टोला का दीपक (24 साल) और सिवनी कुरई थाना क्षेत्र का निहाल राजेन्द्र सिंघारे हैं।
दीपक इंदौर में रहकर पढ़ाई कर रहा था और कुछ दिन पहले ही गांव आया था। उसका धोबी टोला निवासी युवती से प्रेम प्रसंग चल रहा था। उसके दोस्त राजेश ने कुछ ही दिन पहले बोलेरो गाड़ी सिवनी से फाइनेंस कराई थी।
गुरुवार को वह रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया पूरी कर सिवनी से साथियों सहित अपने गांव लौटा था। दीपक रात्रि 10 बजे राजेश और निहाल के साथ गाड़ी से धोबी टोला की ओर रवाना हुआ। संदेह है कि युवती से मिलने या उसे अगवा करने के उद्देश्य से तीनों गांव के बाहर नाले के पास खड़े थे। पुलिस का दावा है कि 24 घंटे के अंदर आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।
जलते हुए भागे, लेकिन नहीं बच सके
पुलिस के अनुसार, हमलावरों को जब उनके आने की भनक लगी तो वे नाले की ओर रवाना हुए। उन्होंने पहले गाड़ी में तोड़फोड़ की और उसके बाद तीनों को गाड़ी में ही बंद कर आग लगा दी। राजेश और निहाल जलते हुए खुद को बचाने गाड़ी से भागे, लेकिन कुछ ही दूर जाकर निढाल हो गिर गए।
दोनों के शव गाड़ी से कुछ दूर ही बरामद हुए हैं। दीपक का शव गाड़ी में ही बुरी तरह जला हुआ पाया गया। शुक्रवार सुबह जब ग्रामीणों ने जले शव और गाड़ी देखी तो जानकारी पुलिस को दी। धारा 302 के तहत मामला दर्ज किया गया।
बुरी तरह जले हुए मिले शव
एसपी बालाघाट, गौरव तिवारी के मुताबिक गाड़ी में तोड़फोड़ कर उसे किसी तीव्र ज्वलनशील पदार्थ से जलाया गया है। शव बेहद बुरी तरह जले हुए मिले हैं। पुलिस हत्या, रंजिश और ऑनर किलिंग जैसे सभी बिंदुओं पर जांच कर रही है।
खरगोन में रजिस्टर्ड है गाड़ी
जिस जीप में युवकों को जलाया गया, वह खरगोन जिले के चैनपुर (झिरन्या) के पते पर रजिस्टर्ड है। माना जा रहा है कि एमपी-10-सीए- 9999 नंबर की यह गाड़ी राजेश ने सेकंड हैंड खरीदी होगी।



A group of people who Fight Against Corruption.


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *