Search
Wednesday 19 September 2018
  • :
  • :
Latest Update

ओम की ध्वनि से हुआ सृष्टि का आरंभ-योगी अश्वनी

ओम की ध्वनि से हुआ सृष्टि का आरंभ-योगी अश्वनी

सृष्टि का आरंभ ओम की ध्वनि से हुआ. ध्वनि से प्रकाश और प्रकाश से पाँचतत्त्व उत्पन्न हुए जिनसे इस संसार की प्रत्येक वस्तु का निर्माण हुआ| अपनेआस पास देखें, चाहे  पेड़ हो या फिर पत्थर, जानवर हो या मानव शरीर, सभीकी अपनी एक ध्वनि है. इस ध्वनि को बदलने से मानव का पूरा स्वरूप बदलजाता है. एक स्वस्थ शरीर और रोगी शरीर में भी ध्वनि का ही फ़र्क है.

यदि योग साधन वा मंत्र उच्चारण द्वारा शरीर की ध्वनि को सूक्ष्म कर दियाजाए, तो रोगी स्वस्थ हो सकता है और डकैत योगी बन सकता. उसी प्रकारअशुद्ध उच्चारण और निम्न ध्वनियों के प्रयोग से घर, वातावरण तथा सृष्टि मेंअसंतुलन उत्पन्न हो सकता है. इसका सीधा प्रमाण है, दूरदर्शन पर धारावाहिकों में बैकग्राउंड म्यूजिक के रूप में चलने वाले अशुद्ध उच्चारण, जोघर घर में गूंजते हैं और उनके परिणाम स्वरूप घर और वातावरण में बढ़तीअशांति.

यद्यपि मंत्र विद्या अत्यंत प्रभावशाली है, किंतु किसी भी मंत्र की सफलता केलिए मंत्र की सिद्धि अनिवार्य है. मंत्र दूरदर्शन से सुन अथवा किताबों से रॅट करनही किये जाते, अपितु गुरु द्वारा शिष्य में संचालित किए जाते हैं. मंत्र काउच्चारण तथा उच्चारण करने वाले का भाव शुद्ध होना भी अनिवार्या है.

प्रत्येक ध्वानि एक उर्जा है, उस ध्वनि में हलके से भेद से ही उसका प्रभावउल्टा पढ़ सकता है. उदाहरण के लिए, महामृत्युंजय जी का जापस्वास्थ्यवर्धक होता है, परंतु उच्चारण की छोटी सी त्रुटि से वह यम (मृत्यूदेव)का आह्वान बन जाता है. इसलिए मंत्रों का प्रयोग गुरु सानिध्या में ही करनाचाहिए.

मंत्रों के उच्चारण से पूर्व, शरीर का संतुलन में होना तथा नाड़ियों का शुद्धीकरणआवश्यक है, तभी साधक मंत्र की शक्ति का संचालन कर सकेगा. इसके लिएउसे चाहिए की सनातन क्रिया में बताई गयी प्रक्रिया का नियम पूर्वक अभ्यासकरे



A group of people who Fight Against Corruption.