Search
Thursday 15 November 2018
  • :
  • :
Latest Update

 हरीश रावत फिर बने मुख्यमंत्री, भाजपा  खेमे में निराशा

 हरीश रावत फिर बने मुख्यमंत्री, भाजपा  खेमे में निराशा

नई दिल्ली। उत्तराखंड में लंबे समय से चल रही सियासी उठापठक बुधवार को खत्म हो गई। सुप्रीम कोर्ट ने राज्य में हुए शक्ति परीक्षण के नतीजे की घोषणा की। सुप्रीम कोर्ट ने बताया कि विधानसभा में हरीश रावत बहुमत साबित करने में कामयाब रहे हैं। कोर्ट ने सिल बंद लिफाफों को खोला। इसमें 61 विधायकों में से हरीश रावत के पक्ष में 33 मत मिले। इस फैसले के बाद केंद्रीय कैबिनेट ने तुरंत राज्य से राष्ट्रपति शासन हटाने का फैसला लिया। राष्ट्रपति के हस्ताक्षर के बाद राज्य में से राष्ट्रपति शासन हट जाएगा।

कोर्ट ने यह आदेश एटार्नी जनरल मुकुल रोहतगी से मिली उस सूचना के बाद दिया जिसमें बताया गया था कि हरीश रावत ने विधानसभा में बहुमत सिद्ध कर दिया है। इसी बीच उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने पत्रकारों से कहा कि उत्तराखंड में राष्ट्रपति शासन लगाने का केंद्र सरकार का फैसला सही था। उन्होंने कहा कि पहली बार अनुच्छेद 356 का सही इस्तेमाल उत्तराखंड में केंद्र ने किया था।

इससे पूर्व सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को सूचित किया था कि वह उत्तराखंड में राष्ट्रपति शासन हटाना चाहती है। एटार्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा एवं न्यायमूर्ति शिवकीर्ति की पीठ के समक्ष में कहा कि मंगलवार को विधानसभा में शक्ति परीक्षण में हरीश रावत के समर्थन में 33 मत पड़े हैं जबकि विरोध में 28 मत पड़े हैं।

उन्होंने कहा ‘इसमें कोई संदेह नहीं कि हरीश रावत ने बहुमत साबित कर दिया है और सरकार उत्तराखंड से राष्ट्रपति शासन हटा रही है।Ó यह पीठ राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाए जाने के मामले की सुनवाई कर रही है। इस पर उच्चतम न्यायालय ने केन्द्र सरकार को उत्तराखंड में राष्ट्रपति शासन वापस लेने की मंजूरी दे दी। न्यायालय ने कहा कि सरकार राष्ट्रपति शासन समाप्त करने संबंधी आदेश की प्रति उसके समक्ष रखे। न्यायालय ने यह भी कहा कि सभी जरुरी औपचारिकताओं के बाद हरीश रावत अपना कार्यभार संभाल सकते हैं।

समर्थकों ने जीत पर पटाखे चलाए

केंद्र सरकार ने बुधवार को सर्वोच्च न्यायालय को जैसे ही यह बताया कि उत्तराखंड में हरीश रावत की अगुवाई वाली कांग्रेस सरकार के पास विधायी बहुमत है और राज्य में लगा राष्ट्रपति शासन हटा दिया जाएगा, यहां कांग्रेस कार्यालय में जमकर जश्र मनाया गया। मुख्यमंत्री हरीश रावत के समर्थकों ने सदन में शक्ति परीक्षण में जीत हासिल होने की खुशी में आतिशबाजी की।

 



A group of people who Fight Against Corruption.


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *