Search
Tuesday 20 November 2018
  • :
  • :
Latest Update

मैं अभी भी ग्राउंड लेवल का स्ट्रगलिंग ऐक्टर हूं-अमिताभ

मैं अभी भी ग्राउंड लेवल का स्ट्रगलिंग ऐक्टर हूं-अमिताभ

महानायक अमिताभ बच्चन की ‘शमिताभ’ रिलीज हो चुकी है। हालांकि, बॉक्स ऑफिस पर तो फिल्म ने खास कमाल नहीं किया, लेकिन बिग बी ने अपनी ऐक्टिंग से एक बार फिर तारीफ बटोरी है। इस साल उनकी 2 फिल्में और रिलीज होने वाली हैं। उन्होंने  वजीर, पीकू सहित कई मसलों पर बात की

आप हमेशा युवा कलाकारों से कुछ न कुछ सीखते हैं। धनुष और अक्षरा से आपने क्या सीखा?

बिल्कुल, ऐसा होता है। उन दोनों से भी कुछ सीखा। उनसे मैंने अभिव्यक्ति की सादगी सीखी।

आपकी अगली फिल्म ‘वजीर’ के प्रोमोज में आपने एक ऐसे शख्स का रोल अदा किया है, जिसने अपने पैर खो दिए हैं और वीलचेयर के सहारे चलता है। क्या यह कठिन नहीं था?

सभी रोल मुश्किल होते हैं। कैमरे पर कोई भी रोल आसान नहीं होता। मुझे लगता है कि कैमरे के सामने खड़ा होना ही फिल्म में किसी दूसरे चैलेंज से बड़ा होता है।

हैपी न्यू इयर में अभिषेक बच्चन की ऐक्टिंग की तारीफ हुई थी। क्या एक कलाकार के तौर पर अभी भी सीख रहे हैं?

वह पहले भी सीखता था। अब भी सीखता है और उम्मीद करता है कि वह आगे भी सीखता ही रहेगा।

शुजीत सरकार की फिल्म पीकू में दीपिका पादुकोण ने आपकी बेटी का रोल अदा किया है। सुना है सेट पर वह आपको बाबा कह कर पुकारती थीं?

हां, पीकू में वह मेरी बेटी का रोल अदा कर रही हैं। वह मेरे कैरक्टर को वह बाबा कह कर बुलाती हैं। इसलिए कई बार वह मुझे ऑफ कैमरा भी बाबा ही बुला देती हैं।

ऐश्वर्या राय बच्चन 2015 में कमबैक कर रही हैं। क्या आपका परिवार उनकी कमबैक फिल्म को लेकर एक्साइटेड हैं?

हां क्यों नहीं! उन्हें हमेशा से अपनी मर्जी से फिल्में साइन करने की आजादी थी। उनके फैसले पर हम लोग हमेशा सपोर्टिव रहते हैं।

आपके बरसों पुराने दोस्त देवन वर्मा का हाल ही में निधन हो गया?

देवन हमेशा हंसी मजाक किया करते थे। चाहे वह कोई फिल्म डायरेक्ट कर रहे हों, या प्रड्यूसर के तौर पर मौजूद हों। कोस्टार या स्टेज शो का हिस्सा होने के नाते, हर हाल में वह कुछ न कुछ ऐसा करते थे जिससे कि सेट पर हंसी-मजाक का माहौल बन जाता था। उन्हें अभी और जीना चाहिए था।

प्राइम मिनिस्टर नरेंद्र मोदी के साथ हाल ही में हुई मीटिंग को किस नजरिए से देखते हैं। क्या अमिताभ बच्चन भी नर्वस हुए थे?

मैं पहले भी कई मौकों पर सम्माननीय प्रधानमंत्री जी से मिल चुका हूं और वह हमेशा बहुत सद्भावपूर्ण भाव से मिलते हैं। इतने ऊंचे पद पर होते हुए भी वह हमेशा गर्मजोशी से मिलते हैं।

एक कलाकार के तौर पर आपका अगला पड़ाव क्या है?

आपके इस सवाल से लग रहा है कि मैं पहले ही किसी लेवल पर पहुंच चुका हूं, और अब मुझे अगले या फिर ऊंचे लेवल पर जाने की तैयारी करनी चाहिए। लेकिन आपका सोचना गलत है। दूसरों का मुझे नहीं पता, लेकिन मैं अभी भी ग्राउंड लेवल का स्ट्रगलिंग ऐक्टर हूं। और जिस तरह से सब काम हो रहा है, लगता ही नहीं कि मैं कभी ऊंचे लेवल पर पहुंच भी पाऊंगा।

क्या आप इस बात को मानते हैं कि एक कलाकार के लिए कैमरा उसके भगवान समान होता है?

जी बिल्कुल! कैमरा भी और उसके पीछे के क्रू, डायरेक्टर, राइटर, प्रड्यूसर, असिस्टेंट सभी लोगों को एक कलाकार भगवान माने।

आप एक अंतर्राष्ट्रीय आइकन हैं। क्या आप इसे एक बड़ी जिम्मेदारी मानते हैं?

आप मुझे यह एक्सप्लेन कर सकते हैं। यह दरअसल मीडिया का दिया हुआ टाइटल है। मैं इस तरह का कलाकार नहीं हूं और न कभी हो पाऊंगा। हां, लेकिन यह सुनने में बहुत उदार लग रहा है। मेरे लिए इतना उदार होने पर आपका धन्यवाद।

सोशल मीडिया का किंग बन कर कैसा लगता है?

इस तरह की किसी उपाधि से मैं खुद को नहीं नवाजना चाहूंगा। सोशल मीडिया का इस्तेमाल मैंने बाय चांस किया था और अब यह बढ़कर मेरी फैमिली बन गई है, जहां मेरे वेल विशर मेरे साथ हैं।

अपने सभी अकाउंट्स को मैं खुद हैंडल करता हूं। और यह भी कहना चाहूंगा कि आपका यह इंटरव्यू मेरी इस फैमिली का टाइम ले रहा है। सोशल मीडिया अब मेरी लाइफ का हिस्सा बन चुका है।

72 साल की उम्र में क्या आपको काम का ज्यादा भार महसूस होता है?

कोई 72 साल की उम्र में कैसे ओवरवर्क्ड महसूस कर सकता है। इसके लिए तो हमें भगवान का धन्यवाद करना चाहिए कि हमारे पास काम है और लोग अब भी हम पर अटेंशन दे रहे हैं।



A group of people who Fight Against Corruption.


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *