Search
Tuesday 13 November 2018
  • :
  • :
Latest Update

पति को गुजारा भत्ता दो, कोर्ट ने दिया महिला को आदेश

पति को गुजारा भत्ता दो, कोर्ट ने दिया महिला को आदेश

आम तौर पर पति तलाकशुदा पत्नी को गुजारा भत्ता देता है। लेकिन कसरागोड की एक फैमिली कोर्ट ने चौंकाने वाला फैसला सुनाया है। कोर्ट ने फैसला दिया है कि पत्नी अपने तलाकशुदा पति को 6,000 रुपये हर माह गुजारा भत्ता के तौर पर दे।
कोर्ट ने अपने फैसले में कहा कि पत्नी ने पति पर रेप का झूठा इल्जाम लगा कर उसका करिअर बर्बाद कर दिया है। इसलिए उसे पति को गुजारा भत्ता देने चाहिए। जज पी.डी. धर्मराजन ने हिंदू मैरेज ऐक्ट के सेक्शन 24 के तहत गुरुवार को यह फैसला सुनाया।
कोर्ट ने यह फैसला म्यूजिक टीचर शिव प्रसाद की अर्जी पर सुनाया। शिव प्रसाद और वी.एम. निव्या की शादी 22 जनवरी, 20011 में हुई थी। निव्या के पैरंट्स इस शादी के खिलाफ थे। शादी के दौरान निव्या मास्टर्स की पढ़ाई कर रही थी। मई 2011 में नव्या और शिव प्रसाद अलग हो गए। निव्या अपने माता-पिता के घर लौट आई और उसने शिव प्रसाद के खिलाफ रेप का मामला दर्ज कराया। उसने आरोप लगाया कि शिव प्रसाद ने शादी का झांसा देकर उससे रेप किया। पुलिस ने आईपीसी के सेक्शन 376 के तहत शिव प्रसाद पर रेप का केस दर्ज किया।
शिव प्रसाद के वकील यू.एस. बालन ने बताया,”जांच में पता चला कि दोनों की शादी हो चुकी थी। हमारे पास शादी के सबूत थे जैसे जिस मंदिर में शादी हुई वहां की रसीद, जिस होटेल में वे रुके वहां के रेकॉर्ड्स और रिसेप्शन की तस्वीरें। उन्होंने एनमाकजे पंचायत में अपनी शादी का रजिस्ट्रेशन भी करवाया था।”
वकील ने कहा कि हमने मांग कि की शिव प्रसाद को गुजाराभत्ता दिया जाना चाहिए। उसके पास अब कोई लड़की म्यूजिक सीखने नहीं आती क्योंकि उस पर रेप का आरोप लगाया गया है। उसका करिअर बर्बाद हो गया है जबकि निव्या मेंगलुरु के एक नामी इंस्टिट्यूट में लेक्चरर के तौर पर काम कर रही है। इसलिए निव्या की तरफ से शिव प्रसाद को गुजारा भत्ता मिलना चाहिए। वकील यू.एस बालन ने कहा कि पति को गुजारा भत्ता देने का प्रावधान सिर्फ हिंदू मैरेज ऐक्ट में है, बाकी किसी मैरेज ऐक्ट में नहीं।

Reviews

  • 9
  • 5
  • 9
  • 4
  • 5
  • 6.4

    Score



A group of people who Fight Against Corruption.


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *